माओ की सनक और चीन की सांस्कृतिक क्रांति, जिसने युवाओं का दोहन और शहरों को मरघट बना दिया

माओ की सनक और चीन की सांस्कृतिक क्रांति, जिसने युवाओं का दोहन और शहरों को मरघट बना दिया

आपने जर्मन तानाशाह हिटलर और क्रूर तानाशाह स्टालिन के कई किस्से सुने होंगे। लेकिन आपको पता है कि अपनी सनक के लिए लोगों की बलि लेने के मामले में माओ, हिटलर और स्टालिन से चार कदम आगे थे।

1949 में बना चीन जिसकी पहचान एक देश से ज्यादा कुछ चेहरों से होती रही। माओत्से तुंग चीन के पहले राष्ट्रपति और दुनिया के कई हिस्सों के लिए एक तानाशाह। 1 अक्टूबर 1949 को जब माओ ने चीन की आजादी की घोषणा की तो खुद को उस देश का सबसे बड़ा नेता भी घोषित कर दिया था। 27 सालों तक चले संघर्ष, विवाद और कई राजनीतिक उठापटक के बाद माओ को ये कुर्सी प्राप्त हुई थी। आपने जर्मन तानाशाह हिटलर और क्रूर तानाशाह स्टालिन के कई किस्से सुने होंगे। लेकिन आपको पता है कि अपनी सनक के लिए लोगों की बलि लेने के मामले में माओ, हिटलर और स्टालिन से चार कदम आगे थे। राजनीतिक कट्टरवाद से युवाओं के बहकाने की संभावना अधिक होती है। यह प्रवृत्ति पूरे इतिहास में एक जैसी रही है, और चीन की साम्यवादी क्रांति कोई अपवाद नहीं थी। माओ तुंग, जिन्हें चेयरमैन माओ के नाम से भी जाना जाता है, क्रांति में सबसे आगे थे। माओ पुरानी व्यवस्था को हटाकर अपने देश को साम्यवादी राज्य बनाना चाहते थे। लेकिन माओ जानते थे कि वह अपने दम पर ऐसा नहीं कर सकते। इसलिए, अपनी राजनीतिक दृष्टि को साकार होते देखने के लिए, उन्होंने चीन के युवाओं का दोहन किया। 

चीन की सांस्कृतिक क्रांति

16 मई 1966 को माओ ने चीन में सांस्कृतिक क्रांति की शुरुआत की जिसे कल्चरल रिव्यलूशन के नाम से भी जाना जाता है। उसी दिन ‘16 मई की सूचना’ नाम से एक विज्ञप्ति जारी की गयी। उसमें कहा गया था कि विज्ञान, शिक्षा, साहित्य, कला, समाचार, पुस्तक-प्रकाशन इत्यादि कई क्षेत्रों का नेतृत्व अब ‘सर्वहारा वर्ग के हाथों में नहीं रह गया है। उन्हें चला रहे सारे बुद्धिजीवी साम्यवाद-विरोधी हैं, जनता के शत्रु प्रतिक्रांतिवादियों का ढेर हैं... जिनके विरुद्ध जीने-मरने की लड़ाई लड़नी होगी। माओ ने इन लोगों को ढूंढ़-ढूंढ़ कर ‘मसल देने’ का आह्वान किया। 1966 से 1976 तक चली ‘सांस्कृतिक क्रांति’ के भयावह दिनों में ऐसे ही गीतों, कविताओं व नारों द्वारा, स्कूली बच्चों व उच्च शिक्षा के छात्रों को अपने माता-पिता को ‘प्रतिक्रांतिकारी’ बता कर उनकी भी सरेआम निंदा-आलोचना के लिए उकसाया गया।

इसे भी पढ़ें: ब्रिटिश PM ने आखिर ऐसा क्या किया? होने लगी इस्तीफे की मांग और फिर संसद में सबके सामने मांगनी पड़ी माफी

द रेड गार्ड्स

चीनी अकाल (1959-1961) की भयावहता के बावजूद माओ अपने वामपंथी एजेंडे के साथ आगे बढ़ने के इच्छुक थे। दरअसल, वह अतीत को नष्ट करके और पूंजीवाद से जुड़ी किसी भी चीज से समाज को साफ करके चीन को सांस्कृतिक स्तर पर बदलना चाहते थे। सबसे पहले प्रमुख राजनेताओं के बेटे और बेटियों ने अपने दोस्तों को कार्यकर्ता बनने के लिए राजी किया। माओ के प्रचार की मदद से यह आंदोलन देश भर के विभिन्न स्कूलों और विश्वविद्यालयों में फैल गया।  युवा लोगों ने लाल पट्टी के साथ अर्धसैनिक वर्दी पहनना शुरू कर दिया, और वे खुद को रेड गार्ड कहते थे। 

युवा शक्ति 

18 अगस्त 1966 को माओ ने बीजिंग के तियानमेन चौक में एक रैली की। रैली में हजारों की संख्या में युवा शामिल हुए, उन्होंने अपने क्रांतिकारी नारे लगाए और अपनी लाल भुजाओं का प्रदर्शन किया। यह विशाल आयोजन एक वाटरशेड मूवमेंट था। माओ के युवा कार्यकर्ताओं ने जहां कहीं भी तबाही मचाई, और उनकी सर्वोच्च प्राथमिकता चीन के सांस्कृतिक अतीत को नष्ट करना था। उन्होंने पुस्तकालयों पर छापा मारा, किताबें जला दीं, संग्रहालयों में तोड़फोड़ की, मूर्तियों को तोड़ दिया, और थिएटरों और ओपेरा हाउसों को तबाह कर दिया। 18 जून 1966 को विश्वविद्यालयों के 60 वरिष्ठ प्रोफ़ेसरों की अपराधियों जैसी सुनवाई के बाद सड़कों पर दौड़ा-दौड़ा कर उन्हें लातों-मुक्कों से मारा गया। जैसे-जैसे समय बीतता गया, रेड गार्ड्स ने अपने लक्ष्यों का विस्तार किया। उन्होंने सहपाठियों, पड़ोसियों, स्टोर मालिकों और उद्यमियों को चालू किया। फिर से, अपमान और हिंसा उनकी क्रांतिकारी रणनीति के मूल थे। उन्होंने बच्चों को अपने माता-पिता और शिक्षकों पर छींटाकशी करने के लिए भी प्रोत्साहित किया यदि वे क्रांति के खिलाफ बोलते हैं। रेड गार्ड माओ के प्रति अपनी भक्ति दिखाने के लिए उत्सुक थे। उन्होंने यह सुनिश्चित करने की पूरी कोशिश की कि उनके नेता का चेहरा अधिक से अधिक स्थानों पर प्रदर्शित हो। घरों, ट्रेनों, बसों और सार्वजनिक स्थानों पर माओ के पोस्टर लगाए गए।

इसे भी पढ़ें: Murree Hill Station: पाकिस्तान पर सफेद आफत, मौत बनकर बरसी बर्फ, कार बनी कब्र

चीन की भटकी हुई पीढ़ी

हालांकि माओ प्रमुख भड़काने वाले थे, वे जानते थे कि हिंसा को रोकना होगा। जुलाई 1968 में, उन्होंने रेड गार्ड्स को भंग कर दिया, और सांस्कृतिक क्रांति आधिकारिक तौर पर अप्रैल 1969 में समाप्त हो गई। लेकिन नुकसान हुआ था। लाखों लोगों ने अपने घर, अपनी संपत्ति और अपनी नौकरी खो दी थी। दूसरों को मार डाला गया था, अधीनता में पीटा गया था, या ग्रामीण इलाकों में निर्वासित किया गया था। सांस्कृतिक क्रांति से युवा पीढ़ी बर्बाद हो गई। उन्होंने पिछले कुछ साल हिंसा को भड़काने या उससे भागने में बिताए थे। उनके पास कोई शिक्षा या कार्य अनुभव नहीं था, और उन्हें चीन की खोई हुई पीढ़ी के रूप में जाना जाने लगा। कई लोगों को किसानों के साथ काम करने के लिए ग्रामीण इलाकों में भेजा गया था। विडंबना यह है कि माओ की सांस्कृतिक क्रांति ने इसके सबसे कट्टर समर्थकों के जीवन को नष्ट कर दिया।

-अभिनय आकाश 






Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राजनीति

झरोखे से...