बिहार में कोरोना वायरस संक्रमित मामलों की संख्या बढकर 277 हुई

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 27, 2020   07:30
बिहार में कोरोना वायरस संक्रमित मामलों की संख्या बढकर 277 हुई

बिहार के कुल 38 जिलों में से 22 जिलों में कोविड 19 के मामले अबतक प्रकाश में आए हैं। बिहार में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले अबतक सबसे अधिक मुंगेर में 68, नालंदा में 34, पटना में 33, सिवान में 30, बक्सर में 25, रोहतास में 15, सारण में तीन मामले प्रकाश में आए हैं।

पटना। बिहार में रविवार को कोरोना संक्रमण के 26 नये मामलों के प्रकाश में आने के साथ ही प्रदेश में कोविड-19 से संक्रमित मामले अब बढकर 277 हो गये हैं। स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार ने बताया कि रविवार को गोपालगंज जिले में 09, रोहतास में 06, पूर्वी चंपारण जिले 04, अरवल एवं मु़ंगेर में 03-03 तथा जहानाबाद में एक कोरोना वायरस संक्रमण के मामले प्रकाश में आए हैं। गौरतलब है कि पटना एम्स में कोरोना संक्रमित मुंगेर जिला निवासी एक मरीज की गत 21 मार्च को तथा वैशाली जिला निवासी एक मरीज की शुक्रवार को मौत हो गयी थी। 

इसे भी पढ़ें: बिहार में कोरोना के 19 मामलों के साथ कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 242 हुई

बिहार के कुल 38 जिलों में से 22 जिलों में कोविड 19 के मामले अबतक प्रकाश में आए हैं। बिहार में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले अबतक सबसे अधिक मुंगेर में 68, नालंदा में 34, पटना में 33, सिवान में 30, बक्सर में 25, रोहतास में 15, कैमूर में 14, गोपालगंज में 12, बेगुसराय में 09, गया में 06, भागलपुर एवं पूर्वी चंपारण में 05-05, अरवल में 04, नवादा एवं सारण में तीन-तीन, बांका, औरंगाबाद, वैशाली एवं भोजपुर में दो-दो तथा लखीसराय, मधेपुरा एवं जहानाबाद में एक-एक मामले प्रकाश में आए हैं। ओमान से लौटे सिवान निवासी एक मरीज के संपर्क में बीते दिनों आने से अबतक 23 लोगों में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हो चुकी है। वहीं कतर से लौटे मुंगेर निवासी एक मरीज जिसकी 21 मार्च को पटना एम्स में मौत हो गयी थी, के संपर्क में आए 11 में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हुई थी। बिहार में अबतक 16985 कोरोना संदिग्ध सैंपल की जांच की जा चुकी है और कोरोना संक्रमित 56 मरीज ठीक भी हुए हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।