ऑनलाइन गेम के लिए बच्चे ने 3.2 लाख रुपए के खरीदे 'हथियार', मां को नहीं लगी भनक, दर्ज कराई शिकायत

ऑनलाइन गेम के लिए बच्चे ने 3.2 लाख रुपए के खरीदे 'हथियार', मां को नहीं लगी भनक, दर्ज कराई शिकायत
प्रतिरूप फोटो

पुलिस ने बताया कि शिक्षिका के बच्चे के ग्रुप में दो अन्य बच्चे भी थे। ऐसे में संदेह है कि उन्होंने ने भी लाखों रुपए के हथियार खरीदे होंगे।

रायपुर। छत्तीसगढ़ के कांकेर जिले की एक शिक्षिका ने साइबर धोखाधड़ी का शिकायत दर्ज कराई। बता दें कि शिक्षिका के बैंक अकाउंट से 3.2 लाख रुपए गायब हो गए। जिसके बाद वह पुलिस के पास पहुंची। हालांकि जब मामले को खंगाला गया तो पता चला कि शिक्षिका के 12 साल के बेटे ने ऑनलाइन गेम के दौरान 3.2 लाख रुपए के हथियार खरीदे हैं। 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश बीजेपी के संगठन मंत्री का फेसबुक पर बना फर्जी अकाउंट, जानने वालों से की गई पैसों की डिमांड 

शिक्षिका के लड़के ने तीन महीने में तकरीबन 278 बार लेनदेन किया। जिसकी किसी को भनक तक नहीं लगी। ऐसा इसलिए भी हुआ क्योंकि जब शिक्षिका का लड़का पैसे का भुगतान करता था तो वो बिना ओटीपी के ही हो जाता था।

अंग्रेजी समाचार पत्र 'द टाइम्स ऑफ इंडिया' के मुताबिक पुलिस ने बताया कि शिक्षिका के बच्चे के ग्रुप में दो अन्य बच्चे भी थे। ऐसे में संदेह है कि उन्होंने ने भी लाखों रुपए के हथियार खरीदे होंगे। शिक्षिका ने 25 जून को जब अकाउंट चेक किया तो उससे 3.2 लाख रुपए गायब थे। जिसकी वजह से वो परेशान हो गईं और साइबर धोखाधड़ी की शिकायत दर्ज कराई। 

पुलिस ने बताया कि शिक्षिका के फोन से ही 8 मार्च से लेकर 10 जून के बीच में लेन-देन किया गया था। जिसके बाद पुलिस ने शिक्षिका को सुझाव दिया कि वो बारे में अपने बच्चे से बात करें। जिसके बाद शिक्षिका यह जानकर दंग रह गईं कि उनका बच्चा एक एक ऑनलाइन गेम से जुड़ा हुआ था और उसने लेवल अपडेट करने और हथियार खरीदने के लिए वित्तीय लेनदेन किया था। 

इसे भी पढ़ें: कोरोना काल में ऑनलाइन गेमिंग के प्रति बढ़ा लोगों का क्रेज, जानिए कितना समय बिताते हैं गेमर्स 

रिपोर्ट के मुताबिक पुलिस ने बताया कि वित्ती लेनदेन के दौरान ओटीपी नहीं मांगा गया था। जिसकी वजह से शिक्षिका को इसके बारे में कोई जानकारी नहीं थी। इसी बीच पुलिस से अभिभावकों से बच्चों की ऑनलाइन गतिविधियों पर नजर बनाए रखने की अपील की है क्योंकि ऑनलाइन क्लासेस के चलते स्मार्टफोन तक बच्चों की पहुंच आसान हो गई है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...