UP में अबतक प्रवासी श्रमिकों को लेकर आ चुकी हैं 1483 ट्रेनें: अवनीश अवस्थी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 29, 2020   16:47
UP में अबतक प्रवासी श्रमिकों को लेकर आ चुकी हैं 1483 ट्रेनें: अवनीश अवस्थी

अपर मुख्य सचिव गृह और सूचना अवनीश अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये है कि पृथकवास केंद्र पर प्राथमिक जांच में स्वस्थ पाए गए कामगारों/श्रमिकों को राशन किट के साथ गृह पृथकवास के लिए भेजा जाए।

लखनऊ। उत्तरप्रदेश में अब तक प्रवासी श्रमिकों को लेकर 1,483 रेलगाड़ी अब तक आ चुकी है और शुक्रवार रात तक 46 रेलगाड़ी और आयेंगी। अभी तक प्रदेश में 20 लाख से अधिक लोग श्रमिक विशेष रेलगाड़ी से आ चुके हैं। अपर मुख्य सचिव गृह और सूचना अवनीश अवस्थी ने शुक्रवार को प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि इसके अलावा हमारे प्रदेश से दूसरे प्रदेशों के श्रमिकों को भी भेजा जा रहा है। अभी तक हरियाणा, राजस्थान, बिहार, मध्य प्रदेश और पंजाब के श्रमिकों को भेजा जा चुका है। उन्होंने बताया कि शुक्रवार रात तक प्रदेश में आने वाली विशेष श्रमिक रेलगाड़ियों की संख्या 1500 के पार पहुंच जाएगी। अब तक सबसे अधिक 511 विशेष रेलगाड़ियां गुजरात से आई हैं। इसके बाद महाराष्ट्र से 350 से अधिक, पंजाब से 231 रेलगाड़ियां आई हैं, इस तरह देश के लगभग सभी प्रदेशों से प्रवासी श्रमिको को लेकर लगातार विशेष रेलगाड़ियां आ रही हैं। इसके अलावा बसों से भी अब तक दो लाख से अधिक प्रवासी श्रमिक प्रदेश लौट चुके है। 

इसे भी पढ़ें: UP के श्रमिकों को वापस लाने के लिए जारी रहेगा ट्रेनों का नि:शुल्क संचालन: योगी आदित्यनाथ 

अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये है कि पृथकवास केंद्र पर प्राथमिक जांच में स्वस्थ पाए गए कामगारों/श्रमिकों को राशन किट के साथ गृह पृथकवास के लिए भेजा जाए। गृह पृथकवास के दौरान उन्हें एक हजार रुपये का भरण-पोषण भत्ता प्रदान किया जाए। राशन कार्ड विहीन कामगारों/श्रमिकों के राशन कार्ड बनाए जाएं, जिससे इनके लिए नियमित खाद्यान्न की व्यवस्था सुनिश्चित हो सके। उन्होंने ग्रामीण तथा शहरी इलाकों में गठित निगरानी समितियों के सदस्यों से नियमित संवाद के माध्यम से इनके कार्यों का फीडबैक प्राप्त करने के निर्देश भी दिए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।