उत्तर प्रदेश में कोरोना से 21 और मरीजों की मौत, 2152 नये संक्रमित मिले

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 28, 2020   16:48
उत्तर प्रदेश में कोरोना से 21 और मरीजों की मौत, 2152 नये संक्रमित मिले

इसके साथ ही प्रदेश में कोविड-19 से अबतक पीड़ित हुए मरीजों की कुल संख्या5,39,899 तक पहुंच गई है। अपर मुख्‍य सचिव (स्‍वास्‍थ्‍य) अमित मोहन प्रसाद ने शनिवार को यहां पत्रकारों को कोरोना वायरस से संक्रमण संबंधी ताजा जानकारी दी।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस के संक्रमण से 21 मरीजों की मौत हुई हैं जिन्हें मिलाकर अबतक प्रदेश में इस महमारी से कुल 7,718 लोगों कीजान जा चुकी है। वहीं, इस अवधि में 2,152 और लोगों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई। इसके साथ ही प्रदेश में कोविड-19 से अबतक पीड़ित हुए मरीजों की कुल संख्या5,39,899 तक पहुंच गई है। अपर मुख्‍य सचिव (स्‍वास्‍थ्‍य) अमित मोहन प्रसाद ने शनिवार को यहां पत्रकारों को कोरोना वायरस से संक्रमण संबंधी ताजा जानकारी दी।

उन्‍होंने बताया कि इस समय राज्‍य में 25,243 मरीज उपचाराधीन हैं जबकि 5,06,938 लोगों को इलाज के बाद छुट्टी दे दी गई है। उन्होंने बताया कि उपचाराधीन मरीजों में 12,293 संक्रमित गृह पृथकवास में ही रहकर इलाज करा रहे हैं जबकि 2,253 का निजी अस्पतालों में और शेष का सरकारी अस्‍पतालों में उपचार चल रहा है। प्रसाद ने कहा कि शुक्रवार को राज्य में 1.74 लाख से नमूनों की जांच की गई। उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश में अब तक कुल 1.89 करोड़ से अधिक नमूनों की जांच की गई है। 

इसे भी पढ़ें: आंध्र प्रदेश में संक्रमण के 733 नए मामले आए सामने, 1,205 लोग हुए संक्रमण मुक्त

उन्‍होंने बताया कि कोविड-19 के प्रावधानों के दृष्टिगत उत्तर प्रदेश महामारी अधिनियम 2020 के प्रावधानों को 30 नवंबर 2020 से बढ़ाकर 31 मार्च 2021 तक कर दिया गया है और इस संबंध में एक अधिसूचना भी जारी की गई है। प्रसाद ने कहा कि जिन क्षेत्रों से अधिक मामले आ रहे हैं उनको चिह्नित करने के निर्देश दिये गये हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।