कर्नाटक में कांग्रेस से भाजपा में शामिल हुए तीनों नेताओं को मिला टिकट

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 22, 2019   11:11
कर्नाटक में कांग्रेस से भाजपा में शामिल हुए तीनों नेताओं को मिला टिकट

कांग्रेस से भाजपा में शामिल हुए दो अन्य नेताओं ए मंजू और देवेन्द्रप्पा को भी क्रमश: हासन और बेल्लारी सीट से टिकट दिये गये है। 21 उम्मीदवारों में से 14 उम्मीदवार मौजूदा सदस्य हैं।

बेंगलुरू। कांग्रेस से हाल में भाजपा में शामिल हुए उमेश जाधव गुलबर्गा सीट पर कांग्रेस के दिग्गज नेता मल्लिकार्जुन खड़गे को चुनौती देंगे। लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा ने राज्य के लिए अपने 21 उम्मीदवारों की सूची जारी की जिसमें उमेश जाधव का नाम शामिल है। कांग्रेस से भाजपा में शामिल हुए दो अन्य नेताओं ए मंजू और देवेन्द्रप्पा को भी क्रमश: हासन और बेल्लारी सीट से टिकट दिये गये है। 21 उम्मीदवारों में से 14 उम्मीदवार मौजूदा सदस्य हैं।

इसे भी पढ़ें: सुपरस्टार पवन कल्याण ने भरा नामांकन, पहली बार लड़ रहे हैं चुनाव

केन्द्रीय मंत्रियों डी वी सदानंद गौड़ा को बेंगलुरू उत्तर, रमेश जिगाजिनगी को बीजापुर और अनंत कुमार हेगड़े को उत्तर कन्नड़ और पूर्व मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा के पुत्र बी वाई राघवेन्द्र को शिमोगा से टिकट दिये गये हैं। पार्टी द्वारा घोषित अन्य उम्मीदवारों में सुरेश अंगडी (बेलगाम), पी सी गद्दीगौदर (बागलकोट), भगवंत कुबा (बीदर), शिवकुमार उदासी (हावेरी), प्रह्लाद जोशी (धारवाड़) और सिद्देश्वर (दावनगेरे) शामिल हैं।

इसे भी पढ़ें: होली पर शत्रुघ्न सिन्हा ने खारिज किया ‘मैं भी चौकीदार’ अभियान, बोले- मैं PM के साथ हूँ

इनके अलावा शोभा करंदलाजे (उडुपी-किकमगुर), नलिन कुमार काटेल (दक्षिण कन्नड़), नारायण स्वामी (चित्रदुर्ग), बसवाराजू (तुमकुर), प्रताप सिम्हा (मैसूर) श्रीनिवास प्रसाद (चामराजनगर) , पीसी मोहन (बेंगलुरू सेंट्रल) और बी गौडा (चिक्काबल्लापुर) शामिल हैं। कर्नाटक की 28 लोकसभा सीटों के लिए दो चरणों में 18 अप्रैल और 23 अप्रैल को 14-14 सीटों पर मतदान होगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।