2017 यूपी चुनावों में बीजेपी को जिन 78 सीटों पर हार मिली, इस बार यहां कमल खिलाने पर पूरा फोकस

2017 यूपी चुनावों में बीजेपी को जिन 78 सीटों पर हार मिली, इस बार यहां कमल खिलाने पर पूरा फोकस

उत्तर प्रदेश में साल 2017 के विधानसभा चुनाव में प्रदेश की 403 सीटों में से बीजेपी को 312 सीटें मिली थी। जबकि उनके सहयोगी अपना दल और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी को क्रमश: नौ और चार सीटें प्राप्त हुई थीं।

प्रदेश में 350 से अधिक सीटें जीतने का लक्ष्य लिए बीजेपी का फोकस मिशन 78 पर है। उत्तर प्रदेश की वो 78 सीटें जहां जहां पर 2017 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी या उनके सहयोगी दलों को हार का सामना करना पड़ा था, उन पर पार्टी की पैनी नजर है। योजनाओं का शिलान्यास हो या फिर लोकार्पण इसके सहारे योगी सरकार जनता को ये बताने की कवायद में लगी है कि इन क्षेत्रों में 2017 के चुनाव में बीजेपी को सफलता मिली होती तो वहां के लोगों को कितना फायदा होता।  उत्तर प्रदेश में साल 2017 के विधानसभा चुनाव में प्रदेश की 403 सीटों में से बीजेपी को 312 सीटें मिली थी। जबकि उनके सहयोगी अपना दल और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी को क्रमश: नौ और चार सीटें प्राप्त हुई थीं। दूसरी तरफ अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी को 47 और मयावती की बहुजन समाज पार्टी को 19 सीटें मिली थी। जबकि कांग्रेस के खाते में 7 और आरएलडी, निषाद पार्टी को 1-1 सीटें से संतोष करना पड़ा था। निर्दलीय के खाते में 3 सीटें गई थी। 

इसे भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश में सड़कों पर मौत का तांडव, अलग अलग सड़क हादसों में 9 लोगों की मौत

भाजपा के सूत्रों के अनुसार आदित्यनाथ ने अब तक 19 ऐसे निर्वाचन क्षेत्रों में नई बुनियादी ढांचा परियोजनाएं शुरू की हैं, परियोजनाओं का उद्घाटन किया है और जनसभाओं को संबोधित किया है। आने वाले दिनों में सीएम योगी शेष सीटों का भी दौरा करेंगे। इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार बीजेपी के एक नेता का कहना है कि मिशन 2022 के तहत बीजेपी उन सीटों में से कम से कम 55 सीटें जीतने का लक्ष्य रखा है। सीएम के साथ दोनों डिप्टी सीएम भी जल्द ही इसी तरह के कार्यक्रम आयोजित करेंगे।

इसे भी पढ़ें: साफ नहीं सरकार का दिल, चुनाव बाद फिर लाएंगे ‘बिल’, योगी आदित्यनाथ को अब इस मुद्दे पर घेरने की तैयारी

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार बीजेपी को अगर दूसरी जीती हुई सीटों पर ‘स्थानीय विधायकों के खिलाफ’ सत्ता विरोधी लहर का सामना करना पड़ता है तो पार्टी इन निर्वाचन क्षेत्रों में जीत से इसकी भरपाई कर सकती है। बदायूं जिले के सहसवां विधानसभा क्षेत्र में जहां समाजवादी पार्टी (सपा) ने जीत हासिल की थी और 2017 में बीजेपी चौथे स्थान पर रही थी वहां सीएम ने 9 नवंबर को विभिन्न परियोजनाओं की आधारशिला रखी। वहां एक जनसभा को संबोधित करते हुए सीएम योगी ने कहा कि यदि सहसवान विधानसभा क्षेत्र में बीजेपी के विधायक होते तो सहसवान तेजी से विकास के पथ पर आगे बढ़ते। सीएम ने लोगों से पार्टी का समर्थन करने और सहसवान में बीजेपी को जीताने की अपील की।  2017 में बीजेपी ने छह में से पांच सीटों पर जीत हासिल की थी। 

इसे भी पढ़ें: जिद है एक सूर्य उगाना है, एक भारत नया बनाना है : योगी आदित्‍यनाथ

हाल ही में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने आदित्यनाथ के साथ 13 नवंबर को आजमगढ़ में एक राज्य विश्वविद्यालय की आधारशिला रखी थी। एक स्थानीय भाजपा नेता ने कहा कि जिस क्षेत्र में शिलान्यास समारोह आयोजित किया गया था, वह क्षेत्र यादव बहुल आजमगढ़ सदर में पड़ता है। इस सीट से सपा के दुर्गा प्रसाद यादव आठवीं बार विधायक हैं। उस सीट पर बीजेपी कभी जीत नहीं पाई है. आजमगढ़ जिला सपा का गढ़ रहा है क्योंकि पार्टी ने 2012 में 10 विधानसभा सीटों में से नौ और 2017 के विधानसभा चुनावों में पांच पर जीत हासिल की थी। 

इसे भी पढ़ें: जिद है एक सूर्य उगाना है, एक भारत नया बनाना है : योगी आदित्‍यनाथ

8 नवंबर को सीएम ने शामली का दौरा किया और 425 करोड़ रुपये की बुनियादी ढांचा परियोजनाओं का शुभारंभ किया और 2017 में आयोजित निर्वाचन क्षेत्र एसपी कैराना में पीएसी बटालियन की नींव रखी। उसी दिन सीएम ने परियोजनाओं का उद्घाटन किया और रामपुर जिले में एक जनसभा को संबोधित किया। रामपुर शहर में आयोजित कार्यक्रम जहां सपा के वरिष्ठ नेता आजम खान विधायक हैं। इस विधानसभा सीट पर बीजेपी कभी नहीं जीती है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।