मुजफ्फरपुर स्टेशन पर मां के शव पर से चादर हटाते बच्चे का मार्मिक वीडियो वायरल

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 28, 2020   09:06
मुजफ्फरपुर स्टेशन पर मां के शव पर से चादर हटाते बच्चे का मार्मिक वीडियो वायरल

बिहार में रेलवे प्लेटफॉर्म पर एक बच्चा अपनी मृत मां को जगाने का प्रयास कर रहा था। रेलवे ने कहा कि महिला पहले से स्वास्थ्य संबंधी परेशानी का सामना कर रही थी और हाल में उनकी सर्जरी भी हुई थी।

मुजफ्फरपुर। प्रचंड गर्मी, भूख और प्यास से प्रवासी मजदूरों की परेशानी और बढ़ने के बीच सोमवार से श्रमिक विशेष ट्रेनों में नौ यात्रियों की मौत हुई है। दिल को दहला देने वाली एक घटना में बिहार में रेलवे प्लेटफॉर्म पर एक बच्चा अपनी मृत मां को जगाने का प्रयास कर रहा था। श्रमिकों को उनके गृह राज्य में भेजने के लिए एक मई से आरंभ गैर वातानुकूलित ट्रेनों में कुछ मौत पहले भी हुई थी। रेलवे ने बुधवार को कहा कि अधिकतर मौतों के मामले में मृतक पहले से स्वास्थ्य संबंधी दिक्कतों का सामना कर रहे थे। सोमवार से उत्तर प्रदेश और बिहार जाने वाली अलग-अलग ट्रेनों में नौ लोगों की मौत हुई लेकिन दोनों राज्यों में रेलवे और नागरिक प्रशासन ने बुधवार को इसकी जानकारी दी। राजद नेता तेजस्वी यादव के करीबी संजय यादव ने एक बच्चे की घटना का वीडियो ट्वीट किया।

दिल को झकझोर देने वाली इस घटना में अपनी मां की मौत से बेखबर बच्चा उनके पास जाने की कोशिश कर रहा था। महिला की पहचान उरेश खातून (35) के तौर पर हुई। वीडियो में दिखा है कि महिला का शव प्लेटफॉर्म पर पड़ा हुआ था और इस दौरान ट्रेनों के आने-जाने की भी घोषणा हो रही थी। बहरहाल, मुजफ्फरपुर में राजकीय रेलवे पुलिस के पुलिस उपाधीक्षक रमाकांत उपाध्याय ने कहा कि यह घटना 25 मई को हुई थी जब प्रवासी महिला श्रमिक विशेष ट्रेन से अहमदाबाद से मुजफ्फरपुर आयी थी। उन्होंने संवाददाताओं को बताया कि मधुबनी जाने वाली ट्रेन में महिला की मौत हुई। महिला के साथ उसकी बहन और अन्य रिश्तेदार भी थे। 

इसे भी पढ़ें: बिहार की राजधानी पटना में कंक्रीट स्लैब के नीचे दबकर 3 बच्चों की मौत, CM नीतीश ने किया मुआवजे का ऐलान

रेलवे ने कहा कि महिला पहले से स्वास्थ्य संबंधी परेशानी का सामना कर रही थी और हाल में उनकी सर्जरी भी हुई थी। मुजफ्फरपुर से ही एक प्रवासी मजदूर के साढ़े चार वर्षीय बेटे की मौत की भी सूचना मिली है। मुजफ्फरपुर में रेलवे स्टेशन पर बच्चे की मौत हो गयी जबकि उसका पिता अपने बच्चे के लिए दूध की तलाश में भटक रहा था। बिहार के दानापुर में 70 वर्षीय वशिष्ठ महतो का शव मुंबई-दरभंगा ट्रेन से उतारा गया। उन्हें दिल की बीमारी थी। महतो मुंबई में उपचार के बाद अपने परिवार के साथ लौट रहे थे। मैहर और सतना के बीच उनकी मौत हो गयी। बुधवार सुबह वाराणसी रेलवे स्टेशन पर एक ट्रेन में दो प्रवासी श्रमिक मृत पाए गए। 

इसे भी पढ़ें: बिहार में लगातार बढ़ रहे कोरोना के मामले, अब तक 3,000 से अधिक व्यक्ति संक्रमित

उत्तर-पूर्वी रेलवे के प्रवक्ता अशोक कुमार ने बताया कि ट्रेन मुंबई में लोकमान्य तिलक टर्मिनस से वाराणसी में मंडुआडीह स्टेशन पहुंची थी। उनमें से एक की पहचान उत्तर प्रदेश के जौनपुर निवासी दशरथ प्रजापति (30) के तौर पर हुई। वह दिव्यांग थे और मुंबई में किडनी संबंधी परेशानी का उन्होंने उपचार कराया था। पुलिस अधीक्षक देवेंद्र नाथ ने बताया कि सूरत-हाजीपुर ट्रेन में 58 वर्षीय श्रमिक उत्तर प्रदेश के बलिया में मृत पाए गए। कानपुर में झांसी-गोरखपुर ट्रेन में दो प्रवासी श्रमिक मृत मिले। एक की पहचान राम अवध चौहान (45) के तौर पर हुई। दूसरे श्रमिक की पहचान नहीं हो पायी। मध्य प्रदेश में वापी-दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन ट्रेन में बहराइच के निवासी शेख सलीम का शव मिला।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।