राम मंदिर ट्रस्ट के बैंक खाते से छह लाख रुपए निकालने वाले चार आरोपी गिरफ्तार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 30, 2020   09:38
राम मंदिर ट्रस्ट के बैंक खाते से छह लाख रुपए निकालने वाले चार आरोपी गिरफ्तार

यह घोटाला तब सामने आया जब लखनऊ में एसबीआई में क्लीयरिंग के दौरान 9.86 लाख के तीसरे जाली चेक को पकड़ा गया। यह चेक बैंक ऑफ बड़ौदा में पेश किया गया था। बैंक के एक वरिष्ठ अधिकारी ने ट्रस्ट के सचिव चंपत राय से ज्यादा रकम वाले इस चेक के बारे में पुष्टि करने के लिये संपर्क किया था।

अयोध्या (उप्र)। अयोध्या में राम मंदिर ट्रस्ट के बैंक खाते से सितंबर में कथित तौर पर जालसाजी कर छह लाख रुपये निकालने वाले चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने मंगलवार को यह जानकारी दी। अयोध्या के पुलिस उप महानिरीक्षक (डीआईजी) दीपक कुमार ने कहा कि न्यासियों के जाली दस्तखत कर ढाई लाख और साढ़े तीन लाख रुपये के दो जाली चेकों के जरिये यहां भारतीय स्टेट बैंक की शाखा से महाराष्ट्र में पंजाब नेशनल बैंक की एक शाखा में रकम स्थानांतरित की गई। यह घोटाला तब सामने आया जब लखनऊ में एसबीआई में क्लीयरिंग के दौरान 9.86 लाख के तीसरे जाली चेक को पकड़ा गया। यह चेक बैंक ऑफ बड़ौदा में पेश किया गया था। बैंक के एक वरिष्ठ अधिकारी ने ट्रस्ट के सचिव चंपत राय से ज्यादा रकम वाले इस चेक के बारे में पुष्टि करने के लिये संपर्क किया था।

राय के इस बात की पुष्टि करते ही चेक का भुगतान रोक दिया गया कि उन्होंने चेक जारी नहीं किया, और बैंक खाते से लेन-देन पर रोक लगा दी गई। इस मामले में 10 सितंबर को अयोध्या कोतवाली में एक प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी। अयोध्या पुलिस ने इस मामले में मंगलवार को चार आरोपियों को गिरफ्तार किया जो मुंबई और ठाणे के रहने वाले हैं हालांकि इस जालसाजी का मुख्य साजिशकर्ता अब भी फरार है। पुलिस ने कहा कि मंगलवार को गिरफ्तार किये गए लोगों को पहचान मुंबई निवासी प्रशांत महावल शेट्टी (40), तथा ठाणे जिले के विमल लल्ला (40), शंकर सीताराम गोपाले (54) और संजय तेजरात (35) के तौर पर हुई है। पुलिस अधिकारी ने कहा कि वे अभी मामले की जांच कर रहे हैं और इस मामले में बैंककर्मियों की मिलीभगत की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।