यूपी के बाद अब उत्तराखंड में चुनावों से पहले कांग्रेस को लगा बड़ा झटका

यूपी के बाद अब उत्तराखंड में चुनावों से पहले कांग्रेस को लगा बड़ा झटका

कांग्रेस ने उत्तराखंड विधानसभा चुनाव के लिए 10 उम्मीदवारों की तीसरी सूची जारी की है जिसमें सबसे प्रमुख नाम पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत का है जिनका पहले घोषित विधानसभा क्षेत्र बदला गया है। पहले उन्हें नैनीताल जिले की रामनगर विधानसभा सीट से उम्मीदवार बनाया गया।

नमस्कार न्यूजरूम में आप सभी का स्वागत है। उत्तराखंड विधानसभा चुनावों से पहले कांग्रेस को तब बड़ा झटका लगा जब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय आज भाजपा में शामिल हो गए। भाजपा के चुनाव प्रभारी और केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद जोशी तथा अन्य वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में किशोर उपाध्याय ने देहरादून में पार्टी की सदस्यता ग्रहण की। भाजपा में शामिल होने पर किशोर उपाध्याय ने कहा कि उत्तराखंड की रक्षा और देश की रक्षा तभी संभव है जब उत्तराखंड खुशहाल रहेगा, सुखी रहेगा।

इसे भी पढ़ें: भाजपा को झटका, पूर्व विधायक ओम गोपाल रावत कांग्रेस में हुए शामिल

हम आपको बता दें कि भाजपा ने अभी तक टिहरी विधानसभा सीट पर प्रत्याशी की घोषणा नहीं की है और अटकलें लगाई जा रही हैं कि सत्तारुढ़ पार्टी किशोर उपाध्याय को टिहरी से चुनावी समर में उतार सकती है। इससे पहले कांग्रेस के उत्तराखंड प्रभारी देवेंद्र यादव ने ट्वीट कर जानकारी दी थी कि उत्तराखंड इकाई के पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय को पार्टी विरोधी गतिविधियों के आरोप में पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से छह साल के लिए निष्कासित कर दिया गया है। किशोर उपाध्याय कुछ सप्ताह पहले तक उत्तराखंड विधानसभा चुनाव के लिए बनी कांग्रेस समन्वय समिति के प्रमुख की भूमिका निभा रहे थे और वह राज्य कांग्रेस कोर कमेटी तथा उत्तराखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सदस्य थे।

कांग्रेस की सूची

इस बीच, कांग्रेस ने उत्तराखंड विधानसभा चुनाव के लिए 10 उम्मीदवारों की तीसरी सूची जारी की है जिसमें सबसे प्रमुख नाम पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत का है जिनका पहले घोषित विधानसभा क्षेत्र बदला गया है। पहले उन्हें नैनीताल जिले की रामनगर विधानसभा सीट से उम्मीदवार बनाया गया था। अब वह नैनीताल जिले की ही लाल कुआं सीट से चुनाव लड़ेंगे। पहले इस सीट पर संध्या डालाकोटी को टिकट मिला था। सूत्रों ने बताया कि प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष रंजीत रावत ने रामनगर से हरीश रावत की उम्मीदवारी का विरोध किया था। इसके बाद पूर्व मुख्यमंत्री ने दूसरी सीट से लड़ने का फैसला किया। सूत्रों का कहना है कि रंजीत रावत रामनगर सीट पर लंबे समय से तैयारी कर रहे थे और अपनी दावेदारी कर रहे थे। हालांकि रंजीत रावत को भी रामनगर से नहीं, बल्कि सल्ट से उम्मीदवार बनाया गया है। रामनगर विधानसभा क्षेत्र से महेंद्र पाल सिंह को टिकट दिया गया है। इसी तरह कुछ अन्य सीटों पर भी उम्मीदवार बदले गए हैं। डोईवाला विधानसभा क्षेत्र से मोहित उनियाल की जगह गौरव चौधरी, ज्वालापुर से बरखा रानी की जगह रवि बहादुर और कालाढूंगी से महेंद्र पाल सिंह की जगह महेश शर्मा को उम्मीदवार बनाया गया है। हरीश रावत की पुत्री अनुपमा रावत को हरिद्वार ग्रामीण से टिकट मिला है।

इसे भी पढ़ें: उत्तराखंड के लिए भाजपा की दूसरी सूची जारी, नौ सीटों पर घोषित किए उम्मीदवार

भाजपा की सूची

जहां तक भाजपा की बात है तो उसने टिहरी और डोइवाला सीटें छोड़कर शेष बची नौ सीटों पर उम्मीदवारों की घोषणा कर दी है। भाजपा द्वारा जारी प्रत्याशियों की दूसरी सूची में सबसे चौंकाने वाला नाम पूर्व मुख्यमंत्री भुवनचंद्र खंडूरी की यमकेश्वर से विधायक पुत्री ऋतु खंडूरी का है जिन्हें कोटद्वार सीट से चुनावी समर में उतारा गया है। इससे पहले जारी 59 उम्मीदवारों की पहली सूची में यमकेश्वर से खंडूरी का टिकट काट दिया गया था। दूसरी सूची में भी भाजपा ने दो विधायकों के टिकट काटे हैं। झबरेडा से विधायक देशराज कर्णवाल की जगह बुधवार को भाजपा में शामिल हुए राजपाल सिंह को टिकट दिया गया है जबकि रूद्रपुर से मौजूदा विधायक राजकुमार ठुकराल की बजाय शिव अरोड़ा को मैदान में उतारा गया है। इस बीच आज मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने अपना नामांकन पत्र दाखिल करने से पहले घर पर पूजा अर्चना की और विश्वास जताया कि एक बार फिर भाजपा की सरकार बनेगी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।