यूपी में 3 टी के अन्तर्गत चलाया जा रहा एग्रेसिव टेस्ट, ट्रैक और ट्रीट अभियान, टेस्टिंग बढ़ाने पर जोर

यूपी में 3 टी के अन्तर्गत चलाया जा रहा एग्रेसिव टेस्ट, ट्रैक और ट्रीट अभियान, टेस्टिंग बढ़ाने पर जोर
प्रतिरूप फोटो

सहगल ने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने 18 मण्डलों के साथ-साथ 40 जनपदों में जाकर स्वयं कोविड अस्पताल, गांवों, निगरानी समिति से वार्ता, कन्टेनमेंट जोन में रहने वाले कोविड-19 से रिकवरी करने वालों से वार्ता और इन्टीग्रेटेड कन्ट्रोल से भी वार्ता कर चुके हैं।

अपर मुख्य सचिव ‘सूचना’ नवनीत सहगल ने बताया कि मुख्यमंत्री द्वारा प्रदेश में 3 टी के अन्तर्गत एग्रेसिव टेस्ट, ट्रैक और ट्रीट का अभियान चलाया जा रहा है। 3 टी के तहत प्रदेश में टेस्टिंग बढ़ाने, ऑक्सीजन बेडों की संख्या बढ़ाने, आंशिक कर्फ्यू तथा वैक्सीनेशन पर कार्य किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में कोविड-19 के टेस्ट की संख्या में निरन्तर बढ़ोत्तरी के साथ-साथ कुल एक्टिव केसों तथा कोविड के प्रतिदिन के मामलों में निरन्तर कमी आ रही है। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री ने सोचा कि जीवन भी बचाना है और जीविका भी बचानी है। इस क्रम में जो उन्होंने आंशिक कोरोना कर्फ्यू लगाने के बाद लोगों का आवागम प्रतिबन्धित हुआ और उसके साथ-साथ सबको टीका लगाने की जो योजना है उस पर, कार्य किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि 3 टी, एग्रेसिव टेस्ट, टेैक, ट्रीट, आंशिक कोरोना कफ्र्यू तथा टीकाकरण इन 5 तत्वों को मिलाकर प्रदेश में कोरोना संक्रमण बहुत तेजी से कम हो रहे हैं। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने जो रणनीति अपनाई है उसी का नतीजा है कि जो 3 लाख 10 हजार से अधिक एक्टिव केस 30 अप्रैल तक थे वो आज घटकर एक्टिव केस लगभग 87 प्रतिशत कम हो गये हैं। एक समय में 24 घंटे में 38 हजार से अधिक संक्रमित मामले आ रहे थे वे भी 95 प्रतिशत घटकर वे अब केवल 5 प्रतिशत रह गये हैं। उन्होंने बताया कि यदि इसकी तुलना अन्य प्रदेशों से करें, तो हम पायेंगे कि महाराष्ट्र की आबादी 12.2 करोड़ में 57 लाख कोरोना के मरीज आये, आज भी एक्टिव केस 2.76 लाख से अधिक हैं, कर्नाटक की आबादी 6 करोड़ में से कोरोना के 25 लाख से अधिक केस आये, आज भी एक्टिव केस 3.5 लाख हैं, केरल की आबादी 3.5 करोड़ में से कोरोना के 24 लाख मामले आये आज भी एक्टिव केस 2.33 लाख है, तमिलनाडु की आबादी 7.6 करोड़ में 20 लाख कोरोना केस आये आज भी एक्टिव केस 3.10 लाख है वहीं इन तीनों प्रदेशों की आबादी मिलाकर उत्तर प्रदेश में अकेले 22.50 करोड़ होने के बावजूद भी उत्तर प्रदेश में 16.88 लाख मामले आये जो आज 42 हजार एक्टिव मामले रह गये हैं। उन्होंने बताया कि जो पाॅजिटीविटी दर है जैसे-महाराष्ट्र में 16.5 प्रतिशत, तमिलनाडु में 7.5 प्रतिशत, केरल में 12.5 प्रतिशत वहीं उत्तर प्रदेश में केवल 3.5 प्रतिशत है। इसी तरह से जो रिकवरी दर भी महाराष्ट्र में 93 प्रतिशत, कर्नाटक में 85 प्रतिशत, केरल में 90 प्रतिशत, तमिलनाडु में 83 प्रतिशत और उत्तर प्रदेश में 96 प्रतिशत से अधिक है। यह आंकड़ा दर्शाता है कि मुख्यमंत्री जी के निर्देशन में प्रदेश में जो कोविड प्रबन्धन का कार्य चल रहा वह मैनेजमेन्ट के लिए अध्ययन का विषय है।

इसे भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश की बड़ी खबरें: माध्यमिक शिक्षा परिषद की वर्ष 2021 की कक्षा 10 की बोर्ड परीक्षा निरस्त

सहगल ने बताया कि मुख्यमंत्री जी ने 18 मण्डलों के साथ-साथ 40 जनपदों में जाकर स्वयं कोविड अस्पताल, गांवों, निगरानी समिति से वार्ता, कन्टेनमेंट जोन में रहने वाले कोविड-19 से रिकवरी करने वालों से वार्ता और इन्टीग्रेटेड कन्ट्रोल से भी वार्ता कर चुके हैं। उन्होंने बताया कि भ्रमण के दौरान स्थानीय लोगों से मुलाकात की यहां तक की वे कोरोना से संक्रमित जो लोग हैं उनसे भी मिले। उन्होंने बताया कि जनपद में जो कार्य कर रहे कोरोना योद्धा का भी उत्साहवर्धन किया। उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार 01 जून से टीकाकरण का एक बहुत बड़ा अभियान चलाने जा रही है। उन्होंने बताया कि जून के महीने में टीकाकरण का जो लक्ष्य रखा गया है उसमें 18 वर्ष से अधिक आयु वर्ग व 45 वर्ष अधिक आयु वर्ग के लोगों का जून के महीने में दोनों को मिलाकर 01 करोड़ लोगों का टीकाकरण किया जायेगा। इसके अलावा प्रदेश में कोविड की सम्भावित तीसरी लहर में बच्चों को सुरक्षित रखने के दृष्टिगत 12 वर्ष से कम आयु के बच्चों के अभिभावकों को भी प्राथमिकता के आधार पर बूथ बनाकर उनका वैक्सीनेशन किया जायेगा। उन्होंने बताया कि प्रदेश के न्यायिक अधिकारी, सरकारी कर्मचारी, शिक्षक एवं पत्रकारों को कोविड वैक्सीन लगाने के लिए जनपदों के कलेक्ट्रेट, तहसील, विकासखण्ड तथा बीएसए के दफ्तर में पृथक रूप से वैक्सीनेशन बूथ की व्यवस्था की जायेगी।

सहगल ने बताया कि प्रदेश में ऑक्सीजन की मात्रा समुचित उपलब्ध है। उन्होंने बताया कि वर्तमान में आॅक्सीजन की मांग फिर से 400 से 450 मी0टन हो गई है। भविष्य में कोई कठिनाई न हो सभी अस्पतालों में प्रयास किया जा रहा है कि आॅक्सीजन के प्लाण्ट लगाकर उनको वहीं स्थानीय स्तर पर आॅक्सीजन के साथ जोड़ा जाए। लगभग 415 प्लाण्ट आॅक्सीजन के बनाये जा रहे हैं उनमें से 61 प्लाण्ट चालू हो गए हैं। शेष पर तेजी से कार्य किया जा रहा है और प्रयास किया जा रहा है कि आगामी तीन महीने में सभी प्लाण्ट चालू हो जाएं। सहगल ने बताया कि प्रदेश सरकार किसानों के हितों के लिए कृतसंकल्प है और किसानों से न्यूनतम समर्थन मूल्य पर उनकी फसल को खरीदे जाने की प्रक्रिया कोविड प्रोटोकाल का पालन करते हुए तेजी से चल रही है। 01 अप्रैल से 15 जून, 2021 तक गेहँू खरीद का अभियान जारी रहेगा। गेहूं क्रय अभियान में अब तक 08 लाख 18 हजार से अधिक किसानों से 39,32,987.80 मी0 टन गेहूँ खरीदा गया है।

इसे भी पढ़ें: यूपी के बलरामपुर में पीपीई किट पहने शख्स ने नदी में फेंका शव, कैमरे में कैद हुई घटना

अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि मुख्यमंत्री जी के निर्देशानुसार प्रदेश में बड़ी संख्या में टेस्टिंग कार्य करते हुए, टेस्टिंग क्षमता निरन्तर बढ़ायी जा रही है। गत एक दिन में कुल 3,40,096 सैम्पल की जांच की गयी है, जिनमें 1 लाख 42 हजार से अधिक टेस्ट आरटीपीसीआर के माध्यम से किया गया है। प्रदेश में अब तक कुल 4,90,96,625 सैम्पल की जांच की गयी है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना सेे संक्रमित 1,908 नये मामले आये हैं। प्रदेश में पिछले 24 घंटे में 6,713 कोविड-19 के मरीज ठीक होकर डिस्चार्ज हुए हैं। अब तक 16,28,456 लोग कोविड-19 से ठीक हो चुके हैं। प्रदेश में कोरोना के कुल 41,214 एक्टिव मामले हैं, जिनमें से 23,419 लोग होम आइसोलेशन में हैं। प्रदेश में प्रतिदिन की पाॅजिविटी दर 0.6 प्रतिशत है। प्रदेश में रिकवरी रेट 96.4 प्रतिशत से अधिक हो गयी है। उन्होंने बताया कि सर्विलांस की कार्यवाही निरन्तर चल रही है। प्रदेश में अब तक सर्विलांस टीम के माध्यम से 2,89,506 क्षेत्रों में 6,39,611 टीम दिवस के माध्यम से 3,55,92,642 घरों के 17,11,90,918 जनसंख्या का सर्वेक्षण किया गया है।

इसे भी पढ़ें: योगी सरकार का ऐलान, कोरोना से जान गंवाने वाले पत्रकारों के परिवारों को 10 लाख की दी जाएगी सहायता राशि

प्रसाद ने बताया कि 01 जून, 2021 से 23 जनपदों में चल रहे 18-44 वर्ष के आयुवर्ग के लोगों का वैक्सीनेशन को प्रदेश के सभी जनपदों में प्रारम्भ किया जायेगा। उन्होंने बताया कि प्रत्येक जनपद में दो से तीन सेन्टर ऐसे रखे जा रहे हैं, जो कि अभिभावकों समर्पित हैं, इस सेन्टर का नाम अभिभावक स्पेशल बूथ रखा जायेगा। इन बूथों पर वही लोग वैक्सीनेशन करा सकेंगे जिनके 01 बच्चा 12 साल से कम उम्र का होगा। इन बूथों पर जब आप वैक्सीनेशन कराने जायेंगे तो अपने बच्चे का जन्म प्रमाण पत्र लेकर जायें। उन्होंने बताया कि कोविड वैक्सीनेशन का कार्य निरन्तर किया जा रहा है। प्रदेश में 1,45,42,802 लोगों को वैक्सीन की पहली डोज तथा 34,49,797 लोगों को दूसरी डोज दी जा चुकी है। अब तक कुल 1,79,92,599 डोजें लगायी गयी हैं। उन्होंने लोगों से कहा कि जिन लोगों ने वैक्सीन की पहली डोज लगवा ली वो समय आने पर वैक्सीन की दूसरी डोज भी अवश्य लगवाये। प्रसाद ने बताया कि दूध विक्रेता, सब्जी विक्रेता, आटो, टेम्पो, ई-रिक्शा चालक, ठेला, खोमचा, रेहड़ी, पटरी आदि संबंधित वर्ग के लिए 15 जून से समस्त जनपदों में टीकाकरण के लिए विशेष अभियान चलाया जाएगा। उन्होंने बताया कि  जनपद में न्यायिक अधिकारी/कर्मचारी, मीडिया कर्मियों आदि के लिए 01 जून से समस्त जनपदों में टीकाकरण अभियान चलाया जाएगा। उन्होंने लोगों से अपील की है कि मास्क का प्रयोग अनिवार्य रूप से करे, सैनेटाइजर व साबुन से हाथ धोते रहे। टीकाकरण के बाद भी कोविड प्रोटोकॉल का पालन अवश्य करें।  





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।