SSP ऊधमपुर की कुर्सी पर बैठने से अलिश्बा ने किया इनकार, बोली- IPS बनकर बैठूंगी

SSP ऊधमपुर की कुर्सी पर बैठने से अलिश्बा ने किया इनकार, बोली- IPS बनकर बैठूंगी

एसएसपी ऊधमपुर सरगुन शुक्ला ने एक ट्वीट में अलिश्बा की फोटो साझा कर लिखा कि इस नन्ही सी बच्ची ने अपने पिता रो मिले शौर्य चक्र को गर्व से अपने पास रखा है और अपनी आंखों में पिता को उस पर गर्व करने का सपना देखा है। वह आईपीएस में शामिल होना चाहती है।

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर कैडर की आईपीएस अधिकारी सरगुन शुक्ला ने सात साल की नन्ही अलिश्बा की तस्वीर साझा कर उसके हौसले का जिक्र किया है। एसएसपी ऊधमपुर सरगुन शुक्ला ने कहा कि उन्होंने अलिश्बा को अपनी कुर्सी पर बैठने के लिए कहा लेकिन अलिश्बा ने यह कहकर बैठने से इनकार कर दिया कि वो आईपीएस अधिकारी बनकर ही इसमें बैठेंगी। 

इसे भी पढ़ें: Padma Awards: इन महिलाओं को मिला पद्म पुरस्कार, जानिए इनके बारें में

एसएसपी ऊधमपुर सरगुन शुक्ला ने एक ट्वीट में अलिश्बा की फोटो साझा कर लिखा कि इस नन्ही सी बच्ची ने अपने पिता रो मिले शौर्य चक्र को गर्व से अपने पास रखा है और अपनी आंखों में पिता को उस पर गर्व करने का सपना देखा है। वह आईपीएस में शामिल होना चाहती है और एक दिन इस कुर्सी पर बैठना चाहती है। उसने अभी बैठने से इनकार कर दिया है। अलिश्बा, तुम बड़ी होकर एक मजबूत प्यारी औरत बनोगी!

इसे भी पढ़ें: Gallantry Awards | गलवान में चीनी दुश्मनों को धूल चटाने वाले कर्नल संतोष बाबू को मिला वीरता का दूसरा सबसे बड़ा सम्‍मान

कौन हैं अलिश्बा ?

अलिश्बा देश के लिए कुर्बान होने वाले सब इंस्पेक्टर इमरान टाक की बेटी है। जिसकी उम्र महज सात साल है और वो भी इस देश के लिए कुछ करना चाहती है। सब इंस्पेक्टर इमरान टाक की तस्वीरें देखकर बड़ी होने वाली अलिश्बा एक दिन आईपीएस अधिकारी बनना चाहती हैं। दरअसल, अलिश्बा के पिता को असाधारण वीरता के लिए मरणोपरान्त शौर्य चक्र से सम्मानित किया गया और यह अलिश्बा ने अपनी मां गुलनाज अख्तर के साथ दिल्ली में यह सम्मान हासिल किया। इसके बाद जब वो ऊधमपुर पहुंची तो उन्हें एसएसपी ऊधमपुर ने अपने कार्यालय में आने का न्योता दिया और अलिश्बा को अपनी कुर्सी पर बैठने को कहा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।