पंजाब को लेकर बोले अनुराग ठाकुर- सत्ता आती-जाती रहती है, सुरक्षा महत्वपूर्ण है

पंजाब को लेकर बोले अनुराग ठाकुर- सत्ता आती-जाती रहती है, सुरक्षा महत्वपूर्ण है
ANI

अनुराग ठाकुर ने कहा कि क्या पंजाब में आशांति देश के हित में है? क्या पंजाब जैसे राज्य में हिंदू, सिख भाईयों के बीच में तनाव पैदा करना किसी के हित में है? यह नहीं होना चाहिए। पंजाब ने 2 दशक शांति के देखे हैं। सत्ता आती, जाती है। सत्ता महत्वपूर्ण नहीं। सुरक्षा महत्वपूर्ण है।

पंजाब में हाल में हुए घटनाओं को लेकर राजनीति तेज होते दिखाई दे रही है। इन सब के बीच आज केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने बड़ा बयान दिया है। अनुराग ठाकुर ने कहा कि सत्ता आती-जाती रहती है लेकिन पंजाब जैसे राज्य की सुरक्षा महत्वपूर्ण है। न्यूज़ एजेंसी एएनआई के मुताबिक अनुराग ठाकुर ने कहा कि क्या पंजाब में आशांति देश के हित में है? क्या पंजाब जैसे राज्य में हिंदू, सिख भाईयों के बीच में तनाव पैदा करना किसी के हित में है? यह नहीं होना चाहिए। पंजाब ने 2 दशक शांति के देखे हैं। सत्ता आती, जाती है। सत्ता महत्वपूर्ण नहीं। सुरक्षा महत्वपूर्ण है।

इसे भी पढ़ें: भगवंत मान का ऐलान, जल्द ही जेल में ‘वीआईपी संस्कृति’ को खत्म करेगी पंजाब सरकार

अनुराग ठाकुर ने आगे कहा कि इसलिए जो लोग केवल सत्ता में आने के लिए अपना समझौता ऐसे लोगों से कर रहे हैं जो देश विरोधी है तो उनको सिखना चाहिए कि वे ऐसा न करें। वह इससे पहले केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने कहा था कि चुनाव के दौरान मैंने कहा था कि पंजाब सीमावर्ती क्षेत्र होने के कारण यहां एक जिम्मेदार सरकार की ज़रूरत है अन्यथा पंजाब वापस उसी आतंकवाद के दौर में ढ़केला जा सकता है और वो दौर न आए इसके लिए विवेकपूर्ण तरीके से मतदान करना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: अमृतसर के गुरु नानक अस्पताल में लगी आग, मरीजों को निकाला गया बाहर, अफरा-तफरी का माहौल

शेखावत ने कहा था कि अभी तो 2 महीने ही हुए है, पंजाब बारूद के ढ़ेर पर बैठा है। इसके लिए निश्चित रुप से भगवंत मान की सरकार को कठोरता के साथ ऐसी ताकतों को खोजने की और सबके साथ मिलकर इसपर काम करने की ज़रूरत है। अनुराग ठाकुर और गजेंद्र शेखावत के इस बयान को पंजाब में हाल में हुए घटनाओं से जोड़कर देखा जा सकता है। हाल में ही पंजाब के मोहाली में इंटेलिजेंस ब्यूरो के ऑफिस में हमला किया गया था। इसके अलावा कुछ दिन पहले दो गुटों में झड़प की भी खबर आई थी और खालिस्तान के नारे लगे थे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।