दिल्ली और पंजाब के बीच हुआ नॉलेज शेयरिंग एग्रीमेंट, केजरीवाल ने बताया क्या है ये समझौता

दिल्ली और पंजाब के बीच हुआ नॉलेज शेयरिंग एग्रीमेंट, केजरीवाल ने बताया क्या है ये समझौता

केजरीवाल ने कहा कि कहा जाता है भाजपा शासित इंदौर देश का सबसे साफ-सुथरा शहर है। तो बीजेपी की एमसीडी को नॉलेज शेयरिंग कर दिल्ली में सफ़ाई करनी चाहिए थी। हमने दिल्ली के सरकारी स्कूल, फिनलैंड से सीख कर ठीक किए।

दिल्ली और पंजाब की सरकारों के बीच नॉलेज शेयरिंग एग्रीमेंट पर हस्ताक्षर किए गए। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दोनों राज्यों की सरकारों ने नॉलेज शेयरिंग एग्रीमेंट पर हस्ताक्षर किए हैं। मैं समझता हूं कि ये भारत के इतिहास में बहुत अनोखा मामला है जब किसी राज्य की सरकारें एक दूसरे से कुछ सीखने के लिए एग्रीमेंट साइन कर रही हैं। आप की दोनों सरकारें अब डॉ. बाबासाहेब अम्बेडकर और शहीद भगत सिंह के सपनों को पूरा करने के लिए काम करेंगी।

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में दूसरी पत्नी की हत्या के आरोप में व्यक्ति और दो अन्य गिरफ्तार

केजरीवाल ने कहा कि कहा जाता है भाजपा शासित इंदौर देश का सबसे साफ-सुथरा शहर है। तो बीजेपी की एमसीडी को नॉलेज शेयरिंग कर दिल्ली में सफ़ाई करनी चाहिए थी। हमने दिल्ली के सरकारी स्कूल, फिनलैंड से सीख कर ठीक किए। तो क्या दिल्ली की सरकार फिनलैंड से चल रही है? अभी सीएम स्टालिन दिल्ली आए, तो क्या तमिलनडु की सरकार दिल्ली से चल रही है?हमने कनाडा, यूएस के स्कूल और अस्पताल भी देखे हैं लेकिन दिल्ली के सरकारी स्कूल के बच्चों का जो कॉन्फिडेंस है और यहां जैसी टेक्नलॉजी को हम नेक्ट लेवल पर ले जाकर पंजाब में लागू करेंगे। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली पुलिस ने मथुरा में सेक्स रैकेट चलाने के आरोप में छह लोगों को गिरफ्तार किया

केजरीवाल ने बताया कि पंजाब में 117 स्कूल और मोहल्ला क्लीनिक की स्थापना की जाएगी। मान ने कहा कि शिक्षा, स्वास्थ्य और बिजली सेवाएं मुहैया कराना उनकी सरकार की प्राथमिकता है और पंजाब इस संबंध में दिल्ली से सीख सकता है, जहां इन क्षेत्रों में बहुत काम किया गया है। उन्होंने कहा कि दिल्ली भी खेती के बारे में पंजाब से सीख सकता है। केजरीवाल ने कहा कि अगर हर राज्य दूसरे राज्यों के अच्छे कामों से सीखना शुरू कर दे, तो भारत का विकास होगा। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।