भूपेश बघेल का दावा, छत्तीसगढ़ में प्रतिदिन 23 हजार नमूनों की जांच

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 24, 2020   17:57
भूपेश बघेल का दावा, छत्तीसगढ़ में प्रतिदिन 23 हजार नमूनों की जांच

राज्य के जनसंपर्क विभाग द्वारा विज्ञप्ति के अनुसार मुख्यमंत्री बघेल मंगलवार को अपने निवास कार्यालय से वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा आयोजित मुख्य मंत्रियों की बैठक में शामिल हुए।

रायपुर। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि राज्य में कोरोना संक्रमण की स्थिति नियंत्रण में है तथा प्रतिदिन 23 हजार नमूनों की जांच की जा रही है। राज्य के जनसंपर्क विभाग द्वारा विज्ञप्ति के अनुसार मुख्यमंत्री बघेल मंगलवार को अपने निवास कार्यालय से वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा आयोजित मुख्य मंत्रियों की बैठक में शामिल हुए। बघेल ने इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी को बताया कि राज्य में कोरोना संक्रमण की स्थिति नियंत्रण में हैं। यहां प्रतिदिन 23 हजार नमूनों की जांच की जा रही है।

उन्होंने प्रधानमंत्री को बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों में पहले कोरोना का संक्रमण नहीं था, लेकिन बाद में कुछ बढ़ा है। यहां मितानिनों (महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं) ने कोरोना संक्रमण रोकथाम में अच्छा कार्य किया है। बघेल ने बताया कि अस्पतालों में ऑक्सीजन की सुविधा वाले बिस्तरों और आईसीयू बिस्तरों की संख्या में बढ़ोतरी की गई है। सभी मेडिकल कॉलेजों में आरटीपीसीआर की सुविधा है। नमूनों की जांच के लिए चार नई प्रयोगशालाएं स्थापित की गई हैं। मुख्यमंत्री ने बताया कि अक्टूबर के बाद कोरोना संक्रमण के नए मामलों में गिरावट हुई है। कोरोना संक्रमण के मामलों में 50 प्रतिशत की कमी आई है जबकि नमूनों की जांच में कमी नहीं की गई है। उन्होंने बताया कि जुलाई में राज्य में कोरोना संक्रमण के मामले चार प्रतिशत थे। जबकि अगस्त में आठ प्रतिशत, सितम्बर में 15 प्रतिशत, अक्टूबर में 10.5 प्रतिशत तथा नवम्बर में सात प्रतिशत मामले आए हैं। 

इसे भी पढ़ें: विजय रूपाणी ने PM मोदी को बताया, गुजरात में कोरोना की स्थिति नियंत्रण में

वहीं राज्य में अक्टूबर-नवम्बर में मृत्युदर एक प्रतिशत रही है। मुख्यमंत्री ने बताया कि शुरूआत में छत्तीसगढ़ में कोरोना के मामले कम थे, लेकिन अन्य राज्यों से आने वाले लोगों के कारण संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी हुई है। बघेल ने बताया कि राज्य के मेडिकल कॉलेजों में ऑक्सीजन प्लांट लगाए जाएंगे। विज्ञप्ति के अनुसार बैठक में आठ राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ कोरोना संक्रमण से रोकथाम और बचाव के उपायों की समीक्षा की गई तथा निकट भविष्य में टीका लगाने के लिए तैयारियों और कार्य योजना पर विचार-विमर्श किया गया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।