पुलवामा में हुई बड़ी सुरक्षा खामियां, अब दूर करने की जरूरत: कांग्रेस

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 19, 2019   11:36
पुलवामा में हुई बड़ी सुरक्षा खामियां, अब दूर करने की जरूरत: कांग्रेस

कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने ट्वीट कर कहा कि कांग्रेस बेहद जिम्मेदार पार्टी है और वह पुलवामा की घटना के बाद संयमित रही।

नयी दिल्ली। पुलवामा आतंकी हमले पर कुछ दिनों तक राजनीतिक बयान देने में संयम बरतने के बाद मंगलवार को कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि बड़ी सुरक्षा खामियां हुई हैं। पार्टी ने यह भी कहा कि अब प्रधानमंत्री वादा करें कि वह पाकिस्तान जाकर 'झप्पी' नहीं डालेंगे और अपने कहे मुताबिक कदम उठाएंगे। कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने ट्वीट कर कहा कि कांग्रेस बेहद जिम्मेदार पार्टी है और वह पुलवामा की घटना के बाद संयमित रही। 2014 से पहले नरेंद्र मोदी छोटी से छोटी घटना पर बहुत भड़काऊ बयान देते थे और तत्कालीन प्रधानमंत्री का इस्तीफा मांगते थे।

इसे भी पढ़ें: पुलवामा से भी बड़ा गुजरात में हो सकता है आतंकी हमला, IB ने जारी किया अलर्ट

उन्होंने कहा कि हमने उरी, संसद हमले और पुलवामा के बाद भी यह नहीं किया। लेकिन बड़ी सुरक्षा ख़ामियों को दूर करना होगा ताकि ऐसी घटनाएं दोबारा नहीं हों। सिंघवी कहा कि कुल 78 वाहनों में 2500 जवानों को ले जाने का हास्यास्पद विचार था, सुरक्षा बलों के गुजरते समय ही आम लोगों के वाहनों के आने जाने की इजाजत दी गयी, जैश-ए-मोहम्मद की ओर से आत्मघाती हमले किये जाने संबन्धी खुफिया रिपोर्ट की अनदेखी क्यों की गई। क्या 56 इंच के सीने द्वारा यही ध्यान दिया गया?

इसे भी पढ़ें: पुलवामा पर राजनीतिक लाभ का प्रयास करने वालों को जनता माफ नहीं करेगी

पार्टी के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने कहा कि मोदी जी, आप कहते हैं कि बातचीत करने का समय बीत गया है। शायद आप सही हों, लेकिन अब कहने के मुताबिक करने का समय है। उन्होंने 2015 में हुए प्रधानमंत्री मोदी के पाकिस्तान दौरे का हवाला देते हुए कहा कि आप हमसे वादा करिये-अब कोई झप्पी नहीं डालेंगे, अब कोई जन्मदिन का जश्न नहीं होगा। गौरतलब है कि पुलवामा हमले के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा था कि पार्टी कुछ दिनों तक राजनीतिक चर्चा नहीं करेगी और वह अपने जवानों एवं सरकार के साथ खड़ी है। गत 14 फरवरी को पुलवामा में हुए आत्मघाती आतंकी हमले में सीआरपीएफ के कम से कम 40 जवान शहीद हो गए थे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।