भाजपा की मांग, पाला बदलने के लिए रुपयों की पेशकश के केजरीवाल के आरोपों की फॉरेंसिक जांच हो

Manoj Tiwari with Ramesh Bidhu
ANI
सिसोदिया उन 15 लोगों में शामिल हैं, जिन्हें दिल्ली आबकारी नीति 2021-22 के कार्यान्वयन में हुई कथित अनियमितताओं के सिलसिले में दर्ज सीबीआई की प्राथमिकी में नामजद किया गया है। पिछले दिनों सीबीआई ने उनके आवास पर छापेमारी भी की थी।
नयी दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने बुधवार को आम आदमी पार्टी (आप)के विधायकों के उन आरोपों की फॉरेंसिक जांच कराने की मांग की, जिनमें उनकी ओर से दावा किया गया था कि राजधानी की प्रमुख विपक्षी पार्टी ने उन्हें पाला बदलने के लिए 20 करोड़ रुपयों की पेशकश की थी। भाजपा ने यह भी कहा कि आरोप लगाने वाले विधायकों का ‘‘लाइ डिटेक्टर टेस्ट’’ भी कराया जाना चाहिए। भाजपा मुख्यालय में एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए भाजपा सांसद मनोज तिवारी, रमेश बिधूड़ी और प्रवेश साहिब सिंह वर्मा ने आरोप लगाया कि आप का ‘‘भ्रष्टाचार-विरोधी’’ पार्टी होने का दावा महज ‘‘नाटक’’ है और जांच से उसकी पोल खुल जाएगी। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली के LG का बयान, झूठा है आप विधायकों का आरोप, करेंगे कानूनी कार्रवाई

तिवारी ने कहा कि चूंकि उन्होंने दावा किया है कि भाजपा ने उन्हें 20-20 करोड़ रुपये की पेशकश की है तो यह फॉरेंसिक जांच का विषय है। उन्होंने कहा, ‘‘अरविंद केजरीवाल ने आरोप लगाया है कि आप के विधायकों को खरीदने की कोशिश की गई और इस सिलसिले में फोन आया था। अगर किसी का फोन आता है तो वह छिप नहीं सकता। क्यों वह फोन करने वाले के नाम का खुलासा नहीं कर रहे हैं? विधायकों की खरीद-फरोख्त के प्रयासों के खिलाफ वह क्यों कोई कानूनी कार्रवाई नहीं कर रहे हैं ?’’ भाजपा की दिल्ली इकाई के पूर्व अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा के सांसद चाहते हैं कि केजरीवाल स्पष्ट करें कि फोन किसका आया था और किसके पास आया था। उन्होंने कहा, ‘‘इसकी जब तक जांच नहीं होगी, तब तक हम सत्य तक नहीं पहुंच पाएंगे। इसकी फॉरेंसिक जांच होनी चाहिए। हमारी मांग है कि इस सिलसिले में जिनको-जिनको फोन आया है, उन सभी लोगों के फोन जांच एजेंसी को लेना चाहिए और इसकी जांच होनी चाहिए।’’ उन्होंने आबकारी नीति को लेकर आप नेताओं पर बार-बार बयान बदलने का भी आरोप लगाया। 

इसे भी पढ़ें: आप और भाजपा के एक-दूसरे पर भ्रष्टाचार के आरोप, विधानसभा परिसर में किया प्रदर्शन

वर्मा ने कहा कि आप के विधायकों का ‘‘लाइ डिटेक्टर टेस्ट’’ कराया जाना चाहिए ताकि इससे उनके ‘‘भ्रष्टाचार-विरोधी होने के नाटक की पोल खुले’’। दिल्ली के सात भाजपा सांसदों ने उपराज्यपाल वी के सक्सेना को इस संबंध में एक पत्र भी लिखा है और उनसे उचित कदम उठाने का आग्रह किया है। तिवारी ने कहा कि आबकारी नीति और स्कूली कक्षाओं के निर्माण में हुए कथित घोटालों से जनता का ध्यान भटकाने के लिए आप के नेता ‘‘दुर्भावनापूर्ण, झूठे और गुमराह करने वाले’’ आरोप लगा रहे हैं। उल्लेखनीय है कि आप नेताओं ने आरोप लगाए थे भाजपा ने आप विधायकों को पाला बदलने के लिए 20 - 20 करोड़ रूपये की पेशकश की थी। सिसोदिया उन 15 लोगों में शामिल हैं, जिन्हें दिल्ली आबकारी नीति 2021-22 के कार्यान्वयन में हुई कथित अनियमितताओं के सिलसिले में दर्ज सीबीआई की प्राथमिकी में नामजद किया गया है। पिछले दिनों सीबीआई ने उनके आवास पर छापेमारी भी की थी।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़