ममता बनर्जी ने द्रोपदी मुर्मू की जीत की संभावनाओं को स्वीकारा, बोलीं- भाजपा ने राष्ट्रपति उम्मीदवार की घोषणा से पहले नहीं की चर्चा

Mamata Banerjee
प्रतिरूप फोटो
ANI Image
मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि राष्ट्रपति चुनाव के लिए अपने उम्मीदवार की घोषणा करने से पहले भाजपा ने हमसे चर्चा नहीं की। उन्हें हमारे सुझाव लेने चाहिए थे ... तब हम विचार कर सकते थे। इस दौरान ममता बनर्जी ने द्रोपदी मुर्मू की जीत की संभावनाओं को भी स्वीकार किया।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी ने शुक्रवार को राष्ट्रपति चुनाव को लेकर बड़ी बात कही है। उन्होंने कहा कि एनडीए की तरफ से राष्ट्रपति उम्मीदवार को घोषणा को लेकर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने हमसे चर्चा नहीं की। आपको बता दें कि एनडीए की तरफ से द्रोपदी मुर्मू ने राष्ट्रपति उम्मीदवार हैं। जबकि विपक्ष के संयुक्त उम्मीदवार यशवंत सिन्हा हैं। ऐसे में दोनों उम्मीदवारों के बीच दिलचस्प मुकाबला होने की संभावना है। हालांकि एनडीए का पलड़ा भारी दिखाई दे रहा है।

इसे भी पढ़ें: नामांकन पत्रों की जांच के बाद राष्ट्रपति चुनाव में मुर्मू और सिन्हा के बीच मुकाबला 

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि राष्ट्रपति चुनाव के लिए अपने उम्मीदवार की घोषणा करने से पहले भाजपा ने हमसे चर्चा नहीं की। उन्हें हमारे सुझाव लेने चाहिए थे ... तब हम विचार कर सकते थे। इस दौरान ममता बनर्जी ने द्रोपदी मुर्मू की जीत की संभावनाओं को भी स्वीकार किया। उन्होंने कहा कि अब हम जानते हैं कि महाराष्ट्र के घटनाक्रम के कारण द्रौपदी मुर्मू की संभावनाएं बेहतर हैं। विपक्षी दल जो कहेंगे, हम उस पर चलेंगे।

इसे भी पढ़ें: आदिवासी महिला होने के कारण ही दिया द्रौपदी मुर्मू को राष्ट्रपति चुनाव में समर्थन : मायावती 

राजनाथ सिंह ने की थी बात

केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने विपक्षी दलों के विचार जानने के लिए कई नेताओं के बातचीत की थी। राजनाथ सिंह ने कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी समेत कई नेताओं से बातचीत की थी। हालांकि उस वक्त विपक्ष की तरफ से उम्मीदवार का नाम तय नहीं हो पाया था और ममता बनर्जी की नई दिल्ली में हुई बैठक बेनतीजा रही थी। जिसके बाद शरद पवार ने विपक्षी दलों की फिर से बैठक बुलाई, जहां पर यशवंत सिन्हा के नाम पर मुहर लगी थी।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़