विकास के रिकार्ड बना रही केंद्र और प्रदेश की भाजपा सरकारः प्रहलाद पटेल

 Prahlad Patel
दिनेश शुक्ल । Oct 28, 2020 9:29PM
केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल ने कहा कि 15 माह प्रदेश में भाजपा की सरकार नहीं थी तो यहां के विकास कार्य ही रूक गए थे। कांग्रेस के मुख्यमंत्री के पास कोई विकास कार्यों के लिए जाता था तो वे खजाना खाली होने का बहाना बनाते थे, लेकिन भाजपा सरकार बनते ही विकास कार्यों की झड़ी लग गई।

छतरपुर। केद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल ने बड़ामलहरा विधानसभा में आयोजित सभा को संबोधित करते हुए कहा कि चाहे केंद्र की मोदी सरकार हो या फिर मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार। दोनों ने ही विकास के रिकार्ड कायम किए हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जो भी वादे विकास के किए थे उनको पूरा किया है तो अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण का कार्य शुरू हो गया है। कश्मीर से धारा 370 हट चुकी है। आज प्रदेश के हर गरीब के पास पक्का मकान हो गया है तो अब किसानों को सम्मान निधि भी मिलना शुरू हो गई है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की सरकारों में कांग्रेसियों का ही विकास होता था, लेकिन भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने देश-प्रदेश के विकास के साथ ही यहां रहने वाले लोगों की भी चिंता की है, परवाह की है। 

 

इसे भी पढ़ें: यह चुनाव राष्ट्रवाद और राष्ट्र विराधियों के बीच : उमा भारती

केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल ने कहा कि 15 माह प्रदेश में भाजपा की सरकार नहीं थी तो यहां के विकास कार्य ही रूक गए थे। कांग्रेस के मुख्यमंत्री के पास कोई विकास कार्यों के लिए जाता था तो वे खजाना खाली होने का बहाना बनाते थे, लेकिन भाजपा सरकार बनते ही विकास कार्यों की झड़ी लग गई। उन्होंने कहा कि भाजपा की सरकार ने हर वर्ग के लोगों का ध्यान रखा है। चाहे गरीब हो, किसान हो, माता-बहन और बेटी हो या फिर युवा हो, सबके लिए योजनाएं शुरू कीं और उनका लाभ लोगों तक पहुंचाया।

इसे भी पढ़ें: विधायक तोड़ने का काम कांग्रेस ने शुरू किया, खत्म भाजपा ने कर दियाः गोपाल भार्गव

केंद्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल ने कहा कि हमारा लक्ष्य ही सबका साथ-सबका विकास करना है। भारतीय जनता पार्टी की सरकारें अपने इस लक्ष्य के लिए दिन-रात काम में जुटी हुई हैं। प्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जनता की भलाई के लिए काम कर रहे हैं। उन्होंने संबल जैसी योजना बनाकर प्रदेश के हर गरीब का दुख-दर्द जाना है और उसको मदद पहुंचाई है। अंतिम संस्कार के लिए भी पांच हजार रूपए की मदद दी है तो किसी गरीब की मौत पर उसको 4 लाख रूपए की आर्थिक सहायता देने का काम किया है, इसलिए इस बार भी कोई गलती न हो जाए। इस बार का वोट कमल के फूल पर ही देना है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़