गिरिराज सिंह का महबूबा मुफ्ती पर पलटवार, कहा- उनको ज्ञान होना चाहिए, मुगलों ने लुटेरों की तरह किया काम

Giriraj Singh
प्रतिरूप फोटो
ANI Image
केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा कि महबूबा मुफ्ती को ज्ञान होना चाहिए कि मुगलों ने वर्षो तक राज किया और जो काम किया उसे पूरा देश जानता है। मुगलों ने लुटेरों की तरह काम किया। स्वभाविक है अगर नेहरू तुष्टिकरण की राजनीति नहीं किए होते तो आज देश की ये दुर्दशा नहीं होती।

नयी दिल्ली। केंद्रीय मंत्री और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता गिरिराज सिंह ने सोमवार को पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती पर पलटवार किया। उन्होंने कहा कि महबूबा मुफ्ती को ज्ञान होना चाहिए कि मुगलों ने वर्षो तक राज किया और जो काम किया उसे पूरा देश जानता है। दरअसल, महबूबा मुफ्ती ने कहा था कि ताजमहल, कुतुब मिनार क्या-क्या बंद करेंगे ? यहां 50 फीसदी पर्यटन तो वो देखने के लिए आता है जो मुगलों ने बनाया है। 

इसे भी पढ़ें: जोधपुर हिंसा को लेकर बोले गिरिराज, हिंदुओं पर पत्थर से हमला रिवाज हो गया, सेक्युलर सरकार में प्रदर्शन और निखर जाता है 

महबूबा पर बरसे गिरिराज

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा कि महबूबा मुफ्ती को ज्ञान होना चाहिए कि मुगलों ने वर्षो तक राज किया और जो काम किया उसे पूरा देश जानता है। मुगलों ने लुटेरों की तरह काम किया। स्वभाविक है अगर नेहरू तुष्टिकरण की राजनीति नहीं किए होते तो आज देश की ये दुर्दशा नहीं होती।

महबूबा मुफ्ती ने कहा था कि ताजमहल, कुतुब मिनार क्या-क्या बंद करेंगे ? यहां 50 फीसदी पर्यटन तो वो देखने के लिए आता है जो मुगलों ने बनाया है। 50 फीसदी लोग यहां सिर्फ ताजमहल देखने के लिए आते हैं। जितनी भी विरासत है उसमें मुगलों का सबसे बड़ा हाथ है। उसके बाद बचा हुआ पर्यटन कश्मीर देखने आता है। 

इसे भी पढ़ें: 2 करोड़ नौकरियां, महंगाई समेत कई मुद्दों से ध्यान भटकाने के लिए कर रहे हिंदू-मुस्लिम: महबूबा मुफ्ती का भाजपा पर हमला 

उन्होंने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा था कि उन्होंने जो वादे किए थे कि हम साल में 2 करोड़ नौकरियां देंगे। इन्होंने कहा था कि हम महंगाई को कम करेंगे। हम 15 लाख रुपए गरीबों के खाते में डालेंगे। इन सवालों का इनके पास कोई जवाब नहीं है। इसलिए लोगों का ध्यान हटाने के लिए हिंदू, मुस्लिम कर रहे हैं।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़