जोधपुर हिंसा को लेकर बोले गिरिराज, हिंदुओं पर पत्थर से हमला रिवाज हो गया, सेक्युलर सरकार में प्रदर्शन और निखर जाता है

Giriraj
screenshot
अभिनय आकाश । May 03, 2022 6:29PM
गिरिराज सिंह ने ट्वीट करते हुए लिखा कि त्योहार चाहे हिंदुओं का हो या उनका..हिंदुओं पर पत्थर से हमला रिवाज हो गया है। गिरिराज ने कहा कि सरकार अगर राजस्थान की तरह सेक्युलर हो तो उनका प्रदर्शन और निखर जाता है।

शांति और भाईचारे का प्रतीक माने-जाने वाले ईद के दिन राजस्थान का जोधपुर शहर हिंसा की आग में झुलक उठा। जोधपुर में ईद की नमाज के बाद झड़प देखने को मिली और बड़ी संख्या में उपद्रवी सड़कों पर उतर आए व गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया। दुकानों में भी तोड़फोड़ की गई और लोगों के साथ मारपीट की भी घटनाएं सामने आई हैं। राजस्थान के जोधपुर शहर में सांप्रदायिक तनाव के बाद मंगलवार को 10 थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू लगा दिया गया। इस बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने लोगों से शांति और सद्भाव बनाए रखने की अपील की। ऐसे में जोधपुर की घटना को लेकर राजनीतिक बयानबाजी का दौर भी शुरू हो चुका है। बीजेपी के फायर ब्रांड नेता और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने जोधपुर की घटना को लेकर निशाना साधा है। उन्होंने राज्य में हुई पत्थरबाजी को लेकर अशोक गहलोत सरकार को घेरा है।

इसे भी पढ़ें: जोधपुर हिंसा: गजेंद्र शेखावत बोले- पूरी तरह फेल गहलोत सरकार, कानून-व्यवस्था की स्थिति खराब

गिरिराज सिंह ने ट्वीट करते हुए लिखा कि त्योहार चाहे हिंदुओं का हो या उनका..हिंदुओं पर पत्थर से हमला रिवाज हो गया है। गिरिराज ने कहा कि सरकार अगर राजस्थान की तरह सेक्युलर हो तो उनका प्रदर्शन और निखर जाता है। यही घटना यूपी या मध्यप्रदेश में हुई होती तो अभी तक इलाज हो गया होता,लेकिन यहां तो राजस्थान सरकार द्वारा ही पत्थर फ़िकवाए जा रहे है। इसके साथ ही गिरिराज सिंह ने घटना का वीडियो भी ट्वीट किया है जिसमें उपद्रवी पत्थरबाजी करते दिखाई दे रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: ईद पर बवाल के बाद जोधपुर के 10 थाना क्षेत्रों में लगाया गया कर्फ्यू, CM गहलोत ने बुलाई उच्च स्तरीय बैठक

गौरतलब है कि राजस्थान के जोधपुर में विवाद की शुरुआत सोमवार आधी आधी रात के बाद हुई जब अल्पसंख्यक समुदाय के कुछ सदस्य ईद के मौके पर जालोरी गेट के पास एक चौराहे पर धार्मिक झंडे लगा रहे थे। इसमें कहा गया है कि लोगों ने चौराहे में स्थापित स्वतंत्रता सेनानी बालमुकुंद बिस्सा की प्रतिमा पर झंडा लगाया जिसका हिंदू समुदाय के लोगों ने विरोध किया। उन्होंने आरोप लगाया कि वहां परशुराम जयंती पर लगाए गए भगवा ध्वज को हटाकर इस्लामी ध्वज लगा दिया, इसको लेकर दोनों समुदाय के लोग आमने सामने आ गए और झड़प हो गई। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़