बीकेयू (लोकशक्ति) ने फिर शुरू किया कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन, कहा- दमन की किसी भी नीति को बर्दाश्त नहीं करेंगे

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 30, 2021   08:11
बीकेयू (लोकशक्ति) ने फिर शुरू किया कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन, कहा- दमन की किसी भी नीति को बर्दाश्त नहीं करेंगे

एक वीडियो संदेश में ठाकुर श्योराज सिंह भाटी ने पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बीकेयू (लोक शक्ति) समर्थकों से मुजफ्फरनगर में बुलाई गई किसान महापंचायत में पहुंचने की अपील भी की।

नोएडा। गाजीपुर बॉर्डर पर किसान आंदोलन को लेकर हुए घटनाक्रमों को देखते हुए भारतीय किसान यूनियन (लोक शक्ति) ने नोएडा में अपना विरोध वापस लेने की घोषणा करने के एक दिन बाद शुक्रवार को फिर से विरोध-प्रदर्शन शुरू कर दिया। बीकेयू (लोक शक्ति) प्रमुख ठाकुर श्योराज सिंह भाटी ने नोएडा के दलित प्रेरणा स्थल पर डेरा डाले समर्थकों से आह्वान किया कि वे अब गाजीपुर बॉर्डर पर पहुंचें, जहां बीकेयू सदस्य धरना दे रहे हैं। एक वीडियो संदेश में सिंह ने पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बीकेयू (लोक शक्ति) समर्थकों से मुजफ्फरनगर में बुलाई गई किसान महापंचायत में पहुंचने की अपील भी की। 

इसे भी पढ़ें: इजरायली दूतावास के पास ब्लास्ट और किसान आंदोलन के चलते अमित शाह का बंगाल दौरा रद्द 

भाटी ने कहा कि कल गाजियाबाद के एक विधायक अपने हथियारबंद समर्थकों के साथ गाजीपुर विरोध स्थल पहुंचे थे। इस कदम से (बीकेयू नेता) राकेश टिकैत व्यथित हैं। उनकी गिरफ्तारी और वहां विरोध समाप्त होने के बारे में घोषणा की गई थी, लेकिन विधायक ने वहां माहौल को बिगाड़ दिया और टिकैत रो पड़े।” उन्होंने कहा कि बीकेयू (लोक शक्ति) दमन की किसी भी नीति को बर्दाश्त नहीं करेगा। सरकार या प्रशासन कोई भी कार्रवाई कर सकता है लेकिन कोई विधायक या जनप्रतिनिधि किसानों के साथ क्रूरता से व्यवहार नहीं कर सकता और बीकेयू (लोक शक्ति) यह बर्दाश्त नहीं करेगा। 

इसे भी पढ़ें: योगेंद्र यादव बोले, देश के हर किसान के घर से 1-1 साथी मोर्चे पर पहुचेंगे 

भाटी ने कहा कि उनका गुट नए विवादास्पद कृषि कानूनों के खिलाफ लड़ाई में टिकैत के बीकेयू के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा रहेगा। संघ प्रमुख के आह्वान पर बीकेयू (लोक शक्ति) के सदस्य मुजफ्फरनगर की महापंचायत में शामिल हुए और कई समर्थक शुक्रवार शाम गाजीपुर बॉर्डर पहुंच गए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।