इंदौर में अवैध निर्माणों पर चला जिला प्रशासन का बुलडोजर, तीन गुंडों के मकान जमींदोज

इंदौर में अवैध निर्माणों पर चला जिला प्रशासन का बुलडोजर, तीन गुंडों के मकान जमींदोज

इस बार शुरुआत चंदन नगर से की गई। पुलिस के द्वारा दी गई सूची के अनुसार अपराधी असलम उर्फ मोंटा के मकान को जमींदोज करने के लिए सबसे पहले निगम की टीम पहुंची। नगर निगम के मुख्यालय से रिमूवल की टीम के साथ निगम के जोन क्रमांक 16 के अधिकारी भी मौजूद थे।

इंदौर।  अपराधियों के मकान और अवैध निर्माणों को जमींदोज करने का अभियान गुरुवार सुबह से एक बार फिर शुरू कर दिया गया। इस अभियान के अंतर्गत गुरुवार सुबह  निगम की टीम ने कुख्यात असलम मोटा समेत 3 गुंडों के चार मकान जमींदोज कर दिए। यह कार्रवाई चंदन नगर के साथ गांधीनगर में की गई। अपराधियों की आर्थिक कमर तोड़ने और उनका रसूख खत्म करने के लिए डीआईजी हरिनारायणचारी मिश्र के द्वारा नगर निगम और प्रशासन के सहयोग से यह अभियान चलाया जा रहा है। पिछले 3 दिनों से कार्रवाई का सिलसिला थमा हुआ था। लेकिन गुरुवार सुबह  निगम ने एक बार फिर इस कार्रवाई की शुरुआत कर दी।

 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश के रतलाम में बाप-बेटी और माँ के शव मिले, हत्या की आशंका

इस बार  शुरुआत चंदन नगर से की गई। पुलिस के द्वारा दी गई सूची के अनुसार अपराधी असलम उर्फ मोंटा के मकान को जमींदोज करने के लिए सबसे पहले निगम की टीम पहुंची। नगर निगम के मुख्यालय से रिमूवल की टीम के साथ निगम के जोन क्रमांक 16 के अधिकारी भी मौजूद थे। पुलिस चंदननगर को इस कार्रवाई की सूचना पहले से ही दे दी गई थी। जिसके परिणाम स्वरूप पुलिस के द्वारा कार्रवाई के लिए बल तैयार रखा गया था। निगम ने पुलिस बल की मौजूदगी में इस कार्रवाई को अंजाम दिया और चंद मिनटों में ही इस अपराधी का मकान ध्वस्त कर दिया। 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में आगामी तीन माह के लिए मंड़ी शुल्क 1.50 पैसे की जगह मात्र 50 पैसे लगेगा

इस कार्रवाई के बाद निगम की टीम ने दूसरी कार्रवाई गांधीनगर के पास सहयोग नगर में की । यह स्थान भी नगर निगम के जोन क्रमांक 16 में ही आता है । इस स्थान पर नगर निगम के द्वारा गुंडा अभियान के तहत संजू काना राठौर निवासी ग़ोरधन पैलेस के मकान का रिमूवल किया गया। यह मकान 1500 वर्ग फीट क्षेत्र में बना हुआ था । इस मकान को तोडऩे की कार्रवाई करने में भी निगम के अधिकारियों को ज्यादा वक्त नहीं लगा। उन्होंने बहुत आसानी के साथ इस मकान को जेसीबी के पंजों के वार से ढेर कर दिया। 

इसे भी पढ़ें: फरार कांग्रेस विधायक आरिफ की जमानत पर हाईकोर्ट के फैसले का इंतजार

इसके बाद निगम की टीम तीसरी कार्रवाई को अंजाम देने के लिए गांधीनगर में पहुंच गई। वहां गांधीनगर के पास परशुराम मार्ग के पीछे कस्तूरबा नगर नामक एक अवैध कॉलोनी स्थित है। इस अवैध कॉलोनी में निगम की टीम ने पहुंचकर अपनी कार्रवाई को शुरू किया। इस स्थान पर निगम के द्वारा अपराधी राजकुमार खटीक के मकान को तोडऩे का काम शुरू किया गया। मौके पर पहुंचे निगम के अधिकारियों ने बताया कि इस कॉलोनी में खटीक के दो मकान है। दोनों मकान 15 बाय 40 के प्लाट पर बनाए गए हैं।  यह दोनों की मकान पक्के बने हुए थे निगम के द्वारा मौके पर भेजी गई पोकलेन मशीन ने एक झटके के साथ इन मकानों को तोड़कर ढेर करना शुरू कर दिया।

इसे भी पढ़ें: इंदौर में निगम कर्मी ने फांसी लगाकर दी जान, पानी की टंकी के नीचे मिला शव

महिला ने किया विरोध, आत्मदाह का प्रयास गांधीनगर में जब टीम कार्रवाई करने पहुंची तो वहां कार्रवाई को रुकवाने के लिए एक महिला ने आत्मदाह करने की कोशिश की। इस कोशिश को पुलिस ने नाकाम कर दिया और महिला के हाथ से केरोसिन छीन लिया। निगम की टीम गांधीनगर क्षेत्र में गुंडे राजकुमार के दो मकान तोड़ने  के लिए पहुंची थी।  इस टीम के द्वारा जब कार्रवाई को शुरू किया जाना था उसी समय राजकुमार के परिवार की एक महिला सामने आ गई।

 

इसे भी पढ़ें: चरित्र शंका में पत्नी की चाकू मारकर हत्या, खुद भी किया आत्महत्या का प्रयास

इस महिला ने  कार्रवाई का विरोध किया और उसने जेसीबी के सामने आकर कार्रवाई को रुकवाने की कोशिश की। इसमें असफल रहने पर महिला ने अपने हाथों में केरोसिन ले लिया और वह आकर सामने खड़ी हो गई। उसने निगम के अधिकारियों को चेतावनी दी कि यदि मकान को तोडने की कोशिश की गई तो वह खुद पर केरोसिन डालकर आग लगा लेगी, वह खुद मर जाएगी। यह स्थिति देखकर नगर निगम के अधिकारियों के हाथ पैर फूल गए। ऐसी नाजुक हालत में पुलिस ने तत्काल मोर्चा संभाला। महिला पुलिस कर्मियों की मदद से पुलिस के द्वारा इस महिला के हाथ से केरोसिन छीना गया और उसे अपनी गाड़ी में बिठा लिया गया। इस महिला के द्वारा मचाए जा रहे बवाल को खत्म करने के बाद इस कार्रवाई को अंजाम दिया जा सका।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।