Prabhasakshi Newsroom। वैक्सीन पर बड़ा फैसला ले सकती है सरकार, बूस्टर डोज की समयसीमा होगी कम !

Prabhasakshi Newsroom। वैक्सीन पर बड़ा फैसला ले सकती है सरकार, बूस्टर डोज की समयसीमा होगी कम !
प्रतिरूप फोटो
ANI Image

वैक्सीन की दूसरी और बूस्टर डोज के बीच के अंतराल को लेकर सरकार जल्द ही बड़ा फैसला ले सकती है। आपको बता दें कि दूसरी और बूस्टर डोज के बीच अभी 9 महीने का अंतराल होता है, जिसे कम करके 6 महीने किया जा सकता है। कोरोना संक्रमण धीरे-धीरे रफ्तार पकड़ रहा है।

कोरोना संक्रमण धीरे-धीरे रफ्तार पकड़ रहा है। देश में एक दिन में कोरोना के 3,303 नए मामले सामने आए। जिसके बाद संक्रमित हो चुके लोगों की संख्या बढ़कर 4 करोड़ 30 लाख 68 हजार 799 हो गई। वहीं उपचाराधीन मरीजों की संख्या भी बढ़कर 16,980 पर पहुंच गई। देश में 46 दिन बाद 3 हजार से अधिक दैनिक मामले सामने आए हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक, देश में संक्रमण से 39 और लोगों की मौत हो गई। जिसके बाद मृतकों की संख्या बढ़कर 5 लाख 23 हजार 693 हो गई है। 

इसे भी पढ़ें: अंडमान एवं निकोबार द्वीपसमूह में कोविड-19 का केवल एक उपचाराधीन मरीज 

दिल्ली में भी बढ़े कोरोना के मामले

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में भी कोरोना संक्रमण अब डराने लगा है। यहां पर एक दिन में संक्रमण के 1,367 नए मामले सामने आए और एक मरीज की मौत भी हो गई। इस वक्त दिल्ली में संक्रमण दर 4.50 प्रतिशत दर्ज की गई। आपको बता दें कि दिल्ली में लगातार छठे दिन संक्रमण के 1,000 से अधिक मामले दर्ज किए गए। स्वास्थ्य विभाग के बुलेटिन के मुताबिक, शहर में मंगलवार को 30,346 नमूनों की जांच हुई।

इसी बीच दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन का भी बयान सामने आया। उन्होंने कहा कि दिल्ली में मामले ज़्यादा आ रहे हैं लेकिन घबराने की बात नहीं है। अस्पताल तक जाने वाले मरीज़ कम हैं क्योंकि लोगों को वैक्सीन लग चुकी है। अस्पतालों में लगभग 10,000 बेड हैं जिनमें 100 बेड ही अधिकृत हैं। 

इसे भी पढ़ें: कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को चेतावनी के तौर पर लिया जाए: अशोक गहलोत 

केंद्र सरकार ले सकती है बड़ा फैसला

वैक्सीन की दूसरी और बूस्टर डोज के बीच के अंतराल को लेकर सरकार जल्द ही बड़ा फैसला ले सकती है। आपको बता दें कि दूसरी और बूस्टर डोज के बीच अभी 9 महीने का अंतराल होता है, जिसे कम करके 6 महीने किया जा सकता है। आधिकारिक सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक वैक्सीनेशन पर राष्ट्रीय तकनीकी परामर्श समूह (एनटीएजीआई) इस अंतराल को कम करने की सिफारिश कर सकता है जिसकी बैठक 29 अप्रैल को होने वाली है।

आईसीएमआर और अन्य अंतरराष्ट्रीय अनुसंधान संस्थाओं के अध्ययनों में पता चला है कि वैक्सीन की दोनों डोज के साथ प्रारंभिक वैक्सीनेशन से करीब छह महीने बाद एंटीबॉडी का स्तर कम होने लगता है और बूस्टर डोज देने से प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाती है। फिलहाल 18 साल से अधिक उम्र के वे सभी लोग वैक्सीन की तीसरी डोज लगवा सकते हैं जिन्हें दूसरी डोज लिए हुए 9 महीने हो चुके हैं।

एक सूत्र ने समाचार एजेंसी पीटीआई-भाषा को बताया कि वैज्ञानिक साक्ष्यों और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर किए गए अध्ययनों के परिणामों को देखने के बाद वैक्सीन की दूसरी और बूस्टर डोज के बीच अंतराल को मौजूदा 9 महीने से कम करके जल्द ही 6 महीने किए जाने की पूरी संभावना है। 

इसे भी पढ़ें: PM मोदी के साथ CMs की बैठक में केजरीवाल फिर से बने चर्चा का विषय, बीजेपी ने कहा- Mannerless 

पूरी तरह खत्म नहीं हुआ कोरोना: PM मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना समीक्षा बैठक में राज्यों को सतर्क रहने की हिदायत दी। राज्यों के साथ बैठक में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि चुनौती खत्म नहीं हुई है। कोरोना अभी पूरी तरह से समाप्त नहीं हुआ है। ऐसे में सार्वजनिक स्थानों पर कोरोना से बचाव के नियमों का पालन करना आवश्यक है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...