कुलगाम में तीन भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या की घटना की गुपकार गठबंधन ने की निंदा

gopkar
भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या की घटना पर दुख जताते हुए पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने कहा कि जम्मू-कश्मीर के लोग केंद्र की नीतियों की कीमत अपनी जान देकर चुका रहे हैं। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘कुलगाम में भाजपा के तीन कार्यकर्ताओं की हत्या के बारे में सुनकर दुख हुआ। उनके परिवारों के प्रति मेरी संवेदनाएं हैं।

श्रीनगर। गुपकर घोषणापत्र गठबंधन (पीएजीडी) ने दक्षिण कश्मीर के कुलगाम जिले में तीन भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या की घटना की शुक्रवार को निंदा की। पीएजीडी के प्रवक्ता सज्जाद लोन ने एक वक्तव्य में कहा, ‘‘राजनीतिक मतभेद हिंसा को सही नहीं ठहरा सकते। हिंसा हमेशा विवेक को दूर कर देती है और करती रहेगी। आक्रामकता का स्रोत चाहे हो जो, किंतु हम सदैव उसके हर रूप से लड़ेंगे।’’ भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या की घटना पर दुख जताते हुए पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने कहा कि जम्मू-कश्मीर के लोग केंद्र की नीतियों की कीमत अपनी जान देकर चुका रहे हैं। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘कुलगाम में भाजपा के तीन कार्यकर्ताओं की हत्या के बारे में सुनकर दुख हुआ। उनके परिवारों के प्रति मेरी संवेदनाएं हैं। आखिरकार अंत में जम्मू-कश्मीर के लोग ही हैं जिन्हें भारत सरकार की बिना सोची समझी नीतियों की कीमत अपनी जान देकर चुकानी पड़ रही है।’’ 

इसे भी पढ़ें: गुपकर घोषणापत्र गठबंधन के अध्यक्ष बने फारूक अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती उपाध्यक्ष चुनी गयीं

नेशनल कॉन्फ्रेंस के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला ने घटना ‘भयावह’ बताया। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘दक्षिण कश्मीर के कुलगाम जिले से भयावह खबर है। आतंकी हमले में तीन भाजपा कार्यकर्ताओं की निशाना बनाकर की गई हत्या की मैं स्पष्ट रूप से निंदा करता हूं। अल्लाह उन्हें जन्नत में जगह दे और उनके परिवारों को इस मुश्किल वक्त का सामना करने का हौसला दे।’’ प्रदेश कांग्रेस समिति ने घटना को निंदनीय शर्मनाक कृत्य बताया और हत्यारों को कठोर सजा देने की मांग की। जेकेपीसीसी ने भी कश्मीर में बिगड़ती कानून व्यवस्था की स्थिति पर गंभीर चिंता जताई। पार्टी के प्रवक्ता ने सरकार से कहा कि वह नेताओं पर हमलों को रोकने के लिए कदम उठाए तथा उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करे। गौरतलब है कि बृहस्पतिवार देर शाम कुलगाम जिले के वाई के पोरा इलाके में भाजपा कार्यकर्ताओं फिदा हुसैन, उमर हाजम एवं उमर राशिद बेग की आतंकवादियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। लश्कर-ए-तैयबा का मुखौटा संगठन माने जाने वाले ‘द रेजिस्टेंस फ्रंट’ (टीआरएफ) ने इन हत्याओं की जिम्मेदारी ली है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़