कांग्रेस ने गुजरात में कोविड-19 से 800 से ज्यादा मौत के लिये ट्रंप के कार्यक्रम को जिम्मेदार ठहराया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 26, 2020   09:59
कांग्रेस ने गुजरात में कोविड-19 से 800 से ज्यादा मौत के लिये ट्रंप के कार्यक्रम को जिम्मेदार ठहराया

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अमित चावडा ने कहा कि उनकी पार्टी जल्दी ही गुजरात उच्च न्यायालय में एक याचिका दायर कर इस मेगा कार्यक्रम के आयोजन की विशेष जांच दल (एसआईटी) द्वारा जांच कराए जाने की मांग करेगी।

अहमदाबाद। गुजरात कांग्रेस ने सोमवार को आरोप लगाया कि भाजपा सरकार द्वारा 24 फरवरी को आयोजित किया गया ‘नमस्ते ट्रंप’ कार्यक्रम राज्य में कोरोना वायरस की वजह से हुई 800 से ज्यादा मौतों के लिये जिम्मेदार है, जिसपर सत्ताधारी भाजपा ने तीखा पलटवार किया। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अमित चावडा ने कहा कि उनकी पार्टी जल्दी ही गुजरात उच्च न्यायालय में एक याचिका दायर कर इस मेगा कार्यक्रम के आयोजन की विशेष जांच दल (एसआईटी) द्वारा जांच कराए जाने की मांग करेगी।

इसे भी पढ़ें: उत्तर भारत में लू का प्रकोप बढ़ा, चुरु में तापमान 47.5 डिग्री सेल्सियस

प्रदेश भाजपा ने हालांकि इस आरोप को खारिज करते हुए दावा किया कि विपक्षी दल मीडिया में आई उन खबरों का जवाब तलाशने की कोशिश कर रहा है जिनमें खुलासा किया गया है कि “तबलीगी जमात के दिल्ली मरकज के कार्यक्रम के बाद कैसे कोरोना वायरस फैला।” भारत दौरे पर आए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने 24 फरवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ अहमदाबाद में एक रोड शो में हिस्सा लिया था जिसमें हजारों लोग शामिल हुए थे। रोड शो के बाद दोनों नेताओं ने मोटेरा क्रिकेट स्टेडियम में एक लाख से भी ज्यादा लोगों की भीड़ को संबोधित किया था। इस कार्यक्रम को ‘नमस्ते ट्रंप’ नाम दिया गया था। गुजरात में कोरोना वायरस का पहला मामला 20 मार्च को सामने आया था। वहीं 25 मई तक राज्य में संक्रमण के कारण 888 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि संक्रमितों की संख्या राज्य में 14,468 है।

इसे भी पढ़ें: हिमाचल प्रदेश में कोविड-19 से दो महिलाओं की मौत, संक्रमण के मामलों की संख्या 224 हुई

चावडा ने आरोप लगाया, “विश्व स्वास्थ्य संगठन ने जनवरी में ही कोरोना वायरस को लेकर चेतावनी जारी कर दी थी, राज्य की भाजपा सरकार ने इसके बावजूद नमस्ते ट्रंप कार्यक्रम का आयोजन किया जिसकी वजह से 800 से ज्यादा लोग यहां महामारी का शिकार बने।” उन्होंने दावा किया कि राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने भी 22 जनवरी को एक अधिसूचना महामारी के बारे में जारी की थी और अपने जिला कार्यालयों से कोरोना वायरस से लड़ने के लिये एहतियाती कदम उठाने को कहा था। कांग्रेस ने आरोप लगाया कि सरकार ने पीपीई किट और वेंटिलेटर खरीदने समेत अन्य ऐहतियाती उपाय क्यों नहीं किये। यह आपराधिक लापरवाही है। वहीं भाजपा ने आरोपों को निराधार बताते हुए विपक्ष को इस मुश्किल वक्त में राजनीति नहीं करने की नसीहत दी। गुजरात भाजपा के प्रवक्ता भरत पांड्या ने कहा कि गुजरात के लोग जानते हैं कि नमस्ते ट्रंप और कोरोना वायरस के प्रसार में कोई तालमेल नहीं है। उन्होंने मीडिया ने आंकड़े देते हुए बताया था कि कैसे तबलीगी जमात के दिल्ली में हुए कार्यक्रम के बाद कोरोना वायरस फैला।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।