कांग्रेस,जीएफपी ने टीएमसी-आईपैक पर मतदाता जागरूकता अभियान के तहत डेटा एकत्र करने का आरोप लगाया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 29, 2022   16:14
कांग्रेस,जीएफपी ने टीएमसी-आईपैक पर मतदाता जागरूकता अभियान के तहत डेटा एकत्र करने का आरोप लगाया

कांग्रेस और गोवा फॉरवर्ड पार्टी (जीएफपी) ने शनिवार को आरोप लगाया कि तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) एवं चुनावी रणनीति बनाने वाली फर्म आईपैक 14 फरवरी को होने जा रहे गोवा विधानसभा चुनाव से पहले संदिग्ध तरीके से मतदाताओं की निजी जानकारियां एकत्र कर रही हैं।

पणजी। कांग्रेस और गोवा फॉरवर्ड पार्टी (जीएफपी) ने शनिवार को आरोप लगाया कि तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) एवं चुनावी रणनीति बनाने वाली फर्म आईपैक 14 फरवरी को होने जा रहे गोवा विधानसभा चुनाव से पहले संदिग्ध तरीके से मतदाताओं की निजी जानकारियां एकत्र कर रही हैं। गोवा कांग्रेस महासचिव सुनिल कवथनकर और जीएफपी महासचिव (संगठन) दुर्गादास कामत ने संवाददाताओं से कहा कि दोनों दलों ने संयुक्त रूप से तृणमूल कांग्रेस एवं आईपैक के खिलाफ नयी दिल्ली में मुख्य निर्वाचन आयुक्त के पास एक शिकायत दायर की है।

इसे भी पढ़ें: बढ़ती ठंड में हड्डी और जोड़ों में दर्द की शिकायत हो तो चिकित्सक की सलाह पर कीजिए ये उपाय

कांग्रेस नेता ने दावा किया कि तृणमूल कांग्रेस और आईपैक महिलाओं को कार्ड देकर दावा कर रही है किममता बनर्जी नीत पार्टी (टीएमसी) के यहां सत्ता में आने पर उन्हें पैसे मिलेंगे और इस सिलसिले में निजी जानकारियां एकत्र की जा रही हैं। उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘तृणमूल कांग्रेस ने दावा किया है कि करीब तीन लाख महिलाओं और दो लाख से अधिक युवकों को इन योजनाओं के लिए सूची में शामिल किया गया है।

इसे भी पढ़ें: अमेरिका-कनाडा सीमा पर मरने वाले चार लोगों को डिंगुचा के ग्रामीणों ने दी श्रद्धांजलि

यह उनके 2022 चुनाव प्रचार के लिए जागरूकता अभियान नहीं है, बल्कि संदिग्ध तरीके से बड़े पैमाने पर निजी जानकारी एकत्र करने का अभियान है जिसका इस्तेमाल अन्य उद्देश्यों के लिए किया जाएगा।’’ कामत ने भी कहा कि सीईसी के पास इस सिलसिले में एक शिकायत दायर की गई है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।