नहीं बन पाई गठबंधन पर बात, अब पश्चिम बंगाल में अकेले चुनाव लड़ेगी कांग्रेस

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 27, 2019   08:48
नहीं बन पाई गठबंधन पर बात, अब पश्चिम बंगाल में अकेले चुनाव लड़ेगी कांग्रेस

पश्चिम बंगाल को लेकर माकपा और वाम मोर्चा कुछ सीटों को लेकर अड़ियल रुख अख्तियार किये हुए हैं। जिसकी वजह से कांग्रेस की बात आगे बढ़ती हुई नहीं दिख रही। लिहाजा अकेले चुनाव लड़ना कांग्रेस के लिए बेहतर होगा।

कोलकाता। माकपा के नेतृत्व वाले वामदलों के मोर्चे के 'अड़ियल' रवैये से नाराज कांग्रेस पश्चिम बंगाल में अकेले लोकसभा चुनाव लड़ सकती है। प्रदेश कांग्रेस के नेताओं ने कहा कि कांग्रेस बुधवार को होने वाली अपनी चुनाव समिति की बैठक में इस मामले पर अंतिम फैसला लेगी। पार्टी सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस पहले ही राज्य की 42 सीटों पर चुनाव लड़ने के इच्छुक नेताओं का बायो-डाटा मांग चुकी है।

इसे भी पढ़ें: ममता बनर्जी निजी कंपनी की तरह पश्चिम बंगाल में चला रहीं सरकार: रमन सिंह

प्रदेश कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने मंगलवार को कहा कि फिलहाल हम राज्य की सभी लोकसभा सीटों पर अकेले चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे हैं। ऐसा प्रतीत होता है कि माकपा और वाम मोर्चा कुछ सीटों को लेकर अड़ियल रुख अख्तियार किये हुए हैं। बात आगे बढ़ती हुई नहीं दिख रही। लिहाजा अकेले चुनाव लड़ना बेहतर है। इससे दो दिन पहले ही माकपा राज्य में कांग्रेस के साथ गठबंधन के लिये अपने दो सहयोगी दलों आरएसपी और भाकपा को साथ लाने में कामयाब हुई थी। 

इसे भी पढ़ें: देश की स्थिति आपातकाल से ज्यादा खराब, विपक्ष एकजुट होकर लड़ेगा: ममता बनर्जी

हालांकि, वाम मोर्चे का एक अन्य घटक दल फॉरवर्ड ब्लॉक इस कदम से सहमत नहीं है क्योंकि वह पुरुलिया कूचबिहार और बारासात लोकसभा सीटों पर अकेले चुनाव लड़ना चाहता है, जहां कांग्रेस भी अपने उम्मीदवार उतारना चाहती है। प्रदेश कांग्रेस के एक और वरिष्ठ नेता ने कहा, "इन तीन सीटों के अलावा रायगंज और मुर्शिदाबाद सीटें भी मुश्किल का सबब बनी हुई हैं। इसके अलावा हम 18 सीटों पर चुनाव लड़ना चाहते हैं, लेकिन माकपा हमें सिर्फ 12 सीटें देने को तैयार है। लिहाज़ा अकेले चुनाव लड़ना ही बेहतर है।"





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...