कांग्रेस सांसद कार्ति ने राजीव हत्या मामले के दोषियों की ‘‘नायकों की तरह पूजा’’ का विरोध किया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 29, 2020   15:47
कांग्रेस सांसद कार्ति ने राजीव हत्या मामले के दोषियों की ‘‘नायकों की तरह पूजा’’ का विरोध किया

कांग्रेस सांसद कार्ति चिदंबरम ने राजीव गांधी हत्या मामले के दोषियों की ‘‘नायकों की तरह पूजा’’ का रविवार को विरोध किया और आश्चर्य व्यक्त किया कि 1991 में पूर्व प्रधानमंत्री के साथ मारे गये लोगों के बारे में कोई बात क्यों नहीं की गई।

चेन्नई। कांग्रेस सांसद कार्ति चिदंबरम ने राजीव गांधी हत्या मामले के दोषियों की ‘‘नायकों की तरह पूजा’’ का रविवार को विरोध किया और आश्चर्य व्यक्त किया कि 1991 में पूर्व प्रधानमंत्री के साथ मारे गये लोगों के बारे में कोई बात क्यों नहीं की गई। शिवगंगा से लोकसभा सांसद ने सात दोषियों का जिक्र करते हुए कहा, ‘‘उन्हें नायक मत बनाओ, वे नायक नहीं हैं’’ और पूछा कि क्या अन्य 15 पीड़ित तमिल नहीं थे। उन्होंने यह भी जानना चाहा, ‘‘उनके लिए न्याय का क्या हुआ?’’ न्यूज 18 तमिलनाडु चैनल को दिए अपने साक्षात्कार की क्लिप को अपने ट्विटर हैंडल पर टैग करते हुए कार्ति ने अफसोस जताया कि तथाकथित तमिल समर्थक संगठनों ने सात दोषियों की रिहाई का समर्थन किया है।

इसे भी पढ़ें: काले कानूनों के खत्म होने तक लड़ाई जारी रहेगी, किसानों से बात करें PM: कांग्रेस

उन्होंने पीड़ितों के बारे में कभी बात नहीं की। गौरतलब है कि यहां श्रीपेरुमबुदुर के निकट 21 मई, 1991 को एक चुनावी रैली में एक महिला हमलावर द्वारा किये गये विस्फोट में राजीव गांधी और 15 अन्य लोग मारे गये थे। सत्तारूढ़ अन्नाद्रमुक, मुख्य विपक्षी पार्टी द्रमुक और लगभग सभी अन्य दलों ने दोषियों वी श्रीहरन उर्फ मुरुगन, टी सुथेंद्रराज उर्फ संतन, ए जी पेरारिवलन उर्फ अरिवु, जयकुमार, रॉबर्ट पायस, रविचंद्रन और नलिनी की रिहाई का समर्थन किया है। अन्नाद्रमुक सरकार ने 2018 में उनकी रिहाई की सिफारिश की थी और मामला राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित के समक्ष लंबित है। तमिलनाडु कांग्रेस कमेटी ने कहा था कि राजनीतिक पार्टियों द्वारा दोषियों की रिहाई की मांग अस्वीकार्य है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।