देश की बेहतरी के लिए केंद्र और राज्य के बीच समन्वय जरूरी : कमलनाथ

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 28, 2020   12:38
देश की बेहतरी के लिए केंद्र और राज्य के बीच समन्वय जरूरी : कमलनाथ

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री ने श्रीलंका में सीता का मंदिर बनाने के निर्णय को लेकर पूछे गए सवाल पर कहा ‘‘ श्रीलंका में हमारा प्रस्ताव है कि हम सीता जी का मंदिर बनाएंगे। इस पर हमने कार्रवाई शुरू की है।

रायपुर। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने देश की बेहतरी के लिए केंद्र और राज्य के बीच समन्वय पर बल दिया है। कमलनाथ ने मंगलवार को यहां स्वामी विवेकानंद विमानतल पर संवाददाताओं से चर्चा के दौरान कहा कि केंद्र सरकार सहयोगपूर्ण संघवाद की बात कहती है। बिना सहयोगपूर्ण संघवाद के देश नहीं चल सकता है। कमलनाथ ने कहा ‘‘ केंद्र और राज्य के बीच समन्वय बना रहे, यह बहुत जरूरी है। बहुत सारे ऐसे मुद्दे हैं जो टकराव के मुद्दे हैं, और टकराव से हानि ही नहीं होती बल्कि देश भी नहीं चल सकता है।’’

इसे भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर के बच्चे राष्ट्रवादी, कभी-कभी गलत दिशा में चले जाते हैं: राजनाथ

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री ने श्रीलंका में सीता का मंदिर बनाने के निर्णय को लेकर पूछे गए सवाल पर कहा ‘‘ श्रीलंका में हमारा प्रस्ताव है कि हम सीता जी का मंदिर बनाएंगे। इस पर हमने कार्रवाई शुरू की है। मंदिर का डिजाइन बना रहे हैं जिससे इसका काम जल्दी शुरू हो सके।’’ कमलनाथ मध्य क्षेत्रीय परिषद की 22वीं बैठक में शामिल होने रायपुर पहुंचे हैं। आज हो रही इस बैठक की अध्यक्षता केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह कर रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: पाक की तरह धर्मशासित देश कभी नहीं बना भारत, भारतीय मूल्यों में सभी धर्म हैं बराबर: राजनाथ

इस बैठक में मध्य क्षेत्रीय परिषद में शामिल छत्तीसगढ़ सहित उत्तरप्रदेश, उत्तराखण्ड और मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री, इन राज्यों के मंत्री, मुख्य सचिव और वरिष्ठ विभागीय अधिकारी शामिल होंगे। मध्य क्षेत्रीय परिषद का गठन केन्द्र सरकार और परिषद में शामिल राज्यों के समन्वय से इन राज्यों में संतुलित सामाजिक-आर्थिक विकास के साथ अन्तरराज्यीय समस्याओं को हल करने के उद्देश्य से एक उच्च स्तरीय सलाहकार मंच के रूप में किया गया है।

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल मध्य क्षेत्रीय परिषद के उपाध्यक्ष हैं, इसलिए यह बैठक छत्तीसगढ़ में आयोजित की जा रही है। क्षेत्रीय परिषद में शामिल राज्यों के मुख्यमंत्री को चक्रीय क्रम (रोटेशन) में परिषद का उपाध्यक्ष बनाया जाता है जिनका कार्यकाल एक वर्ष का होता है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।