देश को वैकल्पिक एजेंडे की जरूरत है, राजनीतिक मोर्चों या राजनीतिक पुनर्गठन की नहीं: राव

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 27, 2022   22:43
देश को वैकल्पिक एजेंडे की जरूरत है, राजनीतिक मोर्चों या राजनीतिक पुनर्गठन की नहीं: राव

तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के 21वें स्थापना दिवस पर आयोजित एक कार्यक्रम में राव ने कहा कि तेलंगाना अन्य राज्यों के लिए एक मिसाल के रूप में उभरा है, हालांकि राज्य को इससे कहीं अधिक हासिल करने की जरूरत है। कार्यक्रम में पार्टी के करीब 3000 लोगों ने शिरकत की।

हैदराबाद। सत्तारूढ़ तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के प्रमुख एवं तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने बुधवार को कहा कि देश को वैकल्पिक एजेंडे की जरूरत है, राजनीतिक मोर्चों या राजनीतिक पुनर्गठन की नहीं और यही कारण था कि उन्होंने कम्युनिस्ट दलों के नेताओं के केन्द्र में भारतीय जनता पार्टी नीत सरकार को ‘‘हटाने’’ के विचार को ना कह दिया था। तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) के 21वें स्थापना दिवस पर आयोजित एक कार्यक्रम में राव ने कहा कि तेलंगाना अन्य राज्यों के लिए एक मिसाल के रूप में उभरा है, हालांकि राज्य को इससे कहीं अधिक हासिल करने की जरूरत है। कार्यक्रम में पार्टी के करीब 3000 लोगों ने शिरकत की। 

इसे भी पढ़ें: ओखला और शाहीन बाग में अतिक्रमण हटाने के लिए बुलडोजर चलायेगा दक्षिणी दिल्ली नगर निगम

राव ने कहा कि देश को वैकल्पिक एजेंडे की जरूरत है, राजनीतिक मोर्चों या राजनीतिक पुनर्गठन की नहीं। ऐसा कहा जाता है कि राव, भाजपा विरोधी गुट बनाने की कोशिश कर रहे हैं। मुख्यमंत्री ने प्राकृतिक संसाधनों की उपलब्धता के बावजूद देश में जल युद्ध, बिजली क्षेत्र के संकट पर चिंता व्यक्त की। राव ने कहा कि उन्होंने केन्द्र में सत्तारूढ़ भाजपा को हटाने के कम्युनिस्ट दलों के नेताओं के विचार को ठुकरा दिया था। उन्होंने कहा कि मकसद किसी भी पार्टी को नीचा दिखाना नहीं होना चाहिए। राज्य में 2014 से सत्ता पर आसीन राव ने दावा किया कि तेलंगाना ने देश से बेहतर प्रदर्शन किया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।