खुशखबरी ! कोरोना कॉलर ट्यून से हैं परेशान तो इससे मिल सकती है जल्द मुक्ति, DoT ने स्वास्थ्य मंत्रालय को लिखा पत्र

खुशखबरी ! कोरोना कॉलर ट्यून से हैं परेशान तो इससे मिल सकती है जल्द मुक्ति, DoT ने स्वास्थ्य मंत्रालय को लिखा पत्र
प्रतिरूप फोटो

कोरोना कॉलर ट्यून को जल्द ही बंद किया जा सकता है। इस संबंध में दूरसंचार विभाग ने स्वास्थ्य मंत्रालय को एक पत्र लिखा है। जिसको लेकर स्वास्थ्य विभाग कोरोना कॉलर ट्यून को बंद करने पर विचार कर रहा है। दूरसंचार विभाग ने अपने पत्र में लिखा कि कॉलर ट्यून को जारी रखने का मतलब है कि महत्वपूर्ण कॉलो को रोकना।

नयी दिल्ली। कोरोना महामारी के भारत समेत दुनिया का हर एक देश प्रभावित हुआ है। इसके बावजूद तमाम देशों ने कोरोना के खिलाफ युद्ध को जारी रखा और भारत जैसे देशों ने उन तमाम मुल्कों की रक्षा के लिए वैक्सीन का निर्माण किया और उनकी मदद की। लेकिन कोरोना महामारी के कमजोर पड़ने के बाद लोग कोरोना कॉलर ट्यून से आह्त हैं। ऐसे में इन लोगों के लिए एक खुशखबरी है। 

इसे भी पढ़ें: रेवांचल और भोपाल एक्सप्रेस में मिलेगा बेडरोल, कोरोना काल मे बंद थी ये सुविधा 

आपको बता दें कि कोरोना कॉलर ट्यून को जल्द ही बंद किया जा सकता है। इस संबंध में दूरसंचार विभाग ने स्वास्थ्य मंत्रालय को एक पत्र लिखा है। जिसको लेकर स्वास्थ्य विभाग कोरोना कॉलर ट्यून को बंद करने पर विचार कर रहा है। दूरसंचार विभाग ने अपने पत्र में लिखा कि कॉलर ट्यून को जारी रखने का मतलब है कि महत्वपूर्ण कॉलो को रोकना और देरी करना, जो आपात स्थिति में किए जाते हैं। 

इसे भी पढ़ें: 2 साल बाद आज से फिर शुरू हुई रेगुलर अंतरराष्ट्रीय उड़ानें, सरकार ने बदले यात्रा के नियम, आप भी जान लीजिए 

दो साल पहले चालू हुई थी कोरोना कॉलर ट्यून

साल 2019 में कोरोना महामारी ने सबसे ज्यादा हाहाकार मचाया हुआ था। उसके बाद से देश ने अब तक कोरोना की तीन लहरों का सामना किया है। ऐसे में सरकार ने जागरुकता के लिए कोरोना कॉलर ट्यून की शुरुआत की थी। ऐसे में फोन कॉल करने पर सबसे पहले कोरोना कॉलर ट्यून सुनाई देती है और फिर घंटी जाती है। महामारी के खिलाफ जागरुकता अभियान से शुरू हुई कॉलर ट्यून अब वैक्सीनेशन को लेकर जागरुकता फैला रही है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।