केजरीवाल ने केंद्र सरकार से कोविड-19 मरीजों के अस्पताल जाने संबंधी आदेश को वापस लेने का किया अनुरोध

Arvind Kejriwal
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अगर प्रशासन और पुलिस कोरोना वायरस संक्रमितों के आकलन के लिए उन्हें कोविड अस्पतालों में जबरदस्ती लेकर जाते हैं तो यह उनकी 15 दिन की हिरासत की तरह होगा।

नयी दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बुधवार को केंद्र सरकार से अनुरोध किया कि हर कोविड-19 रोगी का सरकारी अस्पताल जाना जरूरी होने संबंधी नयी व्यवस्था को वापस लिया जाना चाहिए। केजरीवाल ने कहा कि यह आदेश सही नहीं है। उन्होंने कहा कि अगर प्रशासन और पुलिस कोरोना वायरस संक्रमितों के आकलन के लिए उन्हें कोविड अस्पतालों में जबरदस्ती लेकर जाते हैं तो यह उनकी 15 दिन की हिरासत की तरह होगा। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में कोरोना संक्रमितों की संख्या 70 हजार के पार, अबतक 2,365 मरीजों की मौत 

केजरीवाल ने कोविड-19 देखभाल केंद्र बनाए गए एक बैंक्विट हॉल के दौरे के समय संवाददाताओं से कहा, ‘‘दिल्ली सरकार, केंद्र और अन्य संगठन एक दूसरे के साथ समन्वय से काम कर रहे हैं। मैं केंद्र से आदेश वापस लेने का अनुरोध करता हूं।’’ उन्होंने कहा कि नयी व्यवस्था के तहत यदि किसी कोरोना वायरस संक्रमित रोगी को 103 बुखार है तो उसे भी सरकारी केंद्रों में लंबी कतारों में लगना पड़ेगा। केजरीवाल ने कहा कि क्या व्यवस्था इस तरह की होनी चाहिए।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़