क्यूबा के होटल में हुए विस्फोट में मरने वालों की संख्या बढ़कर 43 हुई

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 11, 2022   12:08
क्यूबा के होटल में हुए विस्फोट में मरने वालों की संख्या बढ़कर 43 हुई
ani

क्यूबा की राजधानी हवाना में एक आलीशान होटल के मलबे से सोमवार को कुछ और शवों को निकाला गया और इसी के साथ होटल में हुए भीषण विस्फोट में मरने वालों की संख्या बढ़कर 43 हो गई। हवाना के 96 कमरों वाले पांच सितारा होटल ‘साराटोगा’ में गत शुक्रवार को विस्फोट हुआ था।

हवाना। क्यूबा की राजधानी हवाना में एक आलीशान होटल के मलबे से सोमवार को कुछ और शवों को निकाला गया और इसी के साथ होटल में हुए भीषण विस्फोट में मरने वालों की संख्या बढ़कर 43 हो गई। हवाना के 96 कमरों वाले पांच सितारा होटल ‘साराटोगा’ में गत शुक्रवार को विस्फोट हुआ था। उन्नीसवीं सदी का यह होटल ओल्ड हवाना में स्थित है। विस्फोट के समय वहां मरम्मत का काम चल रहा था। होटल को मंगलवार को खोले जाने की योजना थी। होटल के आसपास की कई इमारतें भी विस्फोट में क्षतिग्रस्त हुई हैं।

इसे भी पढ़ें: भारतीय उच्चायोग का बयान, भारत अपने सैनिकों को श्रीलंका नहीं भेजेगा

आपातकालीन कर्मी अब भी लापता लोगों की तलाश कर रहे हैं। सेना के मालिकाना हक वाली गोविओटा पर्यटन कंपनी के प्रवक्ता रोबर्टो एनरिकेज ने बताया कि विशेषज्ञों का प्रारंभिक अनुमान है कि विस्फोट से 80 प्रतिशत होटल नष्ट हो गया है। अधिकारियों ने मंगलवार शाम को बताया कि 43वां शव निकाल लिया गया है।

इसे भी पढ़ें: वेस्ट बैंक में अल जजीरा की महिला पत्रकार की फायरिंग में मौत, सिर पर मारी गोली

एनरिकेज ने कहा कि विस्फोट के समय होटल को फिर से खोलने की तैयारी के लिए 51 कर्मी वहां मौजूद थे, जिनमें से 23 के मारे जाने की पुष्टि हो गई है। उन्होंने बताया कि तीन कर्मी अब भी लापता हैं। प्राधिकारियों ने बताया कि इस बात का संदेह है कि विस्फोट गैस रिसाव के कारण हुआ। स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार शाम को बताया कि मृतकों की संख्या बढ़कर 43 हो गई है और 17 लोग अस्पताल में भर्ती हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।