जम्मू-कश्मीर में कब होंगे विधानसभा चुनाव ? मुख्य चुनाव आयुक्त बोले- राजनीतिक दलों से चर्चा के बाद लिया जाएगा फैसला

Sushil Chandra
प्रतिरूप फोटो
ANI Image
अनुराग गुप्ता । May 05, 2022 10:54PM
मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा ने कहा कि परिसीमन आयोग ने अपना नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। इसमें 90 विधानसभा सीटें हैं और 5 संसदीय क्षेत्र की सीटें हैं। 90 सीटों में से 43 सीटें जम्मू के लिए हैं और 47 सीटें कश्मीर क्षेत्र के लिए हैं। उन्होंने कहा निर्वाचन आयोग चुनाव कराने की अपनी प्रक्रिया का पालन करता है।

नयी दिल्ली। केंद्रशासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर में परिसीमन का काम पूरा हो चुका है। परिसीमन आयोग ने गुरुवार को अपने अंतिम आदेश में कश्मीर में विधानसभा सीट की संख्या 47 जबकि जम्मू में 43 रखने की अनुशंसा की है। अंतिम आदेश के मुताबिक जम्मू-कश्मीर में कुल 90 विधानसभा सीटें होंगी। इसी बीच मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा का बयान सामने आया। जिसमें उन्होंने विधानसभा चुनाव के संबंध में जानकारी दी। 

इसे भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर: महबूबा मुफ्ती को परिसीमन पर नहीं है भरोसा, बोलीं- जनसंख्या के आधार की अनदेखी की गई 

समाचार एजेंसी एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक, मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा ने कहा कि परिसीमन आयोग ने अपना नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। इसमें 90 विधानसभा सीटें हैं और 5 संसदीय क्षेत्र की सीटें हैं। 90 सीटों में से 43 सीटें जम्मू के लिए हैं और 47 सीटें कश्मीर क्षेत्र के लिए हैं। उन्होंने कहा कि सबसे बड़ा ध्यान रखा गया है कि एक ही ज़िले में ही विधानसभा सीटें हो, पहले एक ही विधायक कई ज़िलों में जा रहा था। हर संसदीय क्षेत्र में 18 विधानसभा की सीटें आएंगी।

उन्होंने बताया कि पहली बार जम्मू-कश्मीर में 9 सीटें अनुसूचित जनजाति के लिए रखी गई हैं, इसमें से 3 सीटें कश्मीर क्षेत्र के लिए हैं और 6 सीटें जम्मू क्षेत्र के लिए हैं। आपको बता दें कि परिसीमन का पूरा होने के बाद अब कभी भी विधानसभा चुनाव का ऐलान हो सकता है। 

इसे भी पढ़ें: बदल जाएगा जम्मू-कश्मीर का पॉलिटिकल मैप, परिसीमन आयोग ने जारी की अंतिम रिपोर्ट, जानें कहां बढ़ीं कितनी सीटें  

इसी बीच मुख्य चुनाव आयुक्त ने बताया कि चुनाव आयोग चुनाव कराने के लिए अपनी प्रक्रिया का पालन करता है और परिसीमन प्रक्रिया के बाद मतदाता सूची को अपडेट किया जाएगा। उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव पर अंतिम फैसला राजनीतिक दलों के साथ चर्चा के बाद लिया जाएगा।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़