कोरोना बढ़ने की स्थिति से निपटने के लिए तैयार दिल्ली सरकार, केजरीवाल ने कहा- 18 मई के बाद सामने आए 3,500 मामले

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 25, 2020   13:04
कोरोना बढ़ने की स्थिति से निपटने के लिए तैयार दिल्ली सरकार, केजरीवाल ने कहा- 18 मई के बाद सामने आए 3,500 मामले

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में सरकारी और निजी अस्पतालों के पास कोविड-19 मरीजों के लिए 4,500 बेड हैं और इनमें से केवल 2,000 भरे हुए हैं।

नयी दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को कहा कि अगर राष्ट्रीय राजधानी में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले बढ़ते हैं तो उनकी सरकार इस स्थिति से निपटने के लिए तैयार है। हालांकि, केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में लॉकडाउन के चौथे चरण में कई सारी रियायतें देने के बाद भी स्थिति नियंत्रण में है। ऑनलाइन प्रेस वार्ता में उन्होंने कहा कि लॉकडाउन का चौथा चरण शुरू होने के बाद से कोविड-19 के करीब 3,500 मामले सामने आए हैं। केंद्र ने कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए 25 मई को राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन की घोषणा की थी और 18 मई को इसका चौथा चरण शुरू हो गया था। 

इसे भी पढ़ें: कोविड-19 के आंकड़ों को लेकर AAP ने साधा निशाना, कहा- बीजेपी कर रही घटिया राजनीति 

केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में सरकारी और निजी अस्पतालों के पास कोविड-19 मरीजों के लिए 4,500 बेड हैं और इनमें से केवल 2,000 भरे हुए हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना मरीजों के लिए सोमवार से निजी अस्पतालों में 2,000 नये बेड उपलब्ध होंगे। स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने रविवार को कहा कि दिल्ली सरकार ने निजी अस्पतालों और नर्सिंग होम जिनके पास 50 बेड या उससे अधिक की क्षमता है उन्हें निर्देश दिया कि वे कोरोना वायरस मरीजों के लिए कुल बेड क्षमता में से 20 प्रतिशत आरक्षित रखें। मुख्यमंत्री ने कहा कि 3,314 कोरोना मरीजों का इलाज उनके घर में चल रहा है जबकि 2,000 अस्पताल में भर्ती हैं। उन्होंने कहा कि दिल्ली में अब तक 13,418 मामले सामने आए हैं और इनमें से 6,540 स्वस्थ हो गए हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।