जबलपुर के अस्पताल में आग से आठ लोगों की मौत, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दिए जांच के आदेश

fire h
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
मध्य प्रदेश के जबलपुर में तीन मंजिला एक निजी अस्पताल में सोमवार दोपहर को भीषण आग लग गई, जिससे चार मरीजों सहित आठ लोगों की मौत हो गई और पांच अन्य झुलस गये। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आयुक्त, जबलपुर को घटना के जांच के आदेश दिए हैं।

जबलपुर (मप्र),2 अगस्त। मध्य प्रदेश के जबलपुर में तीन मंजिला एक निजी अस्पताल में सोमवार दोपहर को भीषण आग लग गई, जिससे चार मरीजों सहित आठ लोगों की मौत हो गई और पांच अन्य झुलस गये। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आयुक्त, जबलपुर को घटना के जांच के आदेश दिए हैं। जबलपुर के जिलाधिकारी डॉ. इलैयाराजा टी. ने बताया कि घटना में आठ लोगों की मौत हो गई और पांच अन्य लोग झुलस गये।

उनके अनुसार मृतकों में चार मरीज, अस्पताल के तीन कर्मचारी और एक अन्य व्यक्ति शामिल है, जो मरीज के साथ उसकी देखभाल करने के लिए आया हुआ था। उन्होंने कहा कि झुलस गये लोगों में से दो की हालत गंभीर है, जिन्हें सरकारी मेडिकल कॉलेज जबलपुर के गहन देखभाल कक्ष (आईसीयू) में भर्ती कराया गया है। इलैयाराजा ने बताया कि आग पर काबू पा लिया गया है और 30 बिस्तर वाले अस्पताल से सभी लोगों को बाहर निकाल लिया गया है।

उन्होंने कहा कि जब आग लगी थी, उस वक्त अस्पताल के अंदर करीब 20 से 25 लोग मौजूद थे। जबलपुर के पुलिस अधीक्षक (एसपी) सिद्धार्थ बहुगुणा ने मीडिया को बताया कि आग गोहलपुर थाना क्षेत्र में दमोह नाका के पास न्यू लाइफ मल्टीस्पेशलिटी अस्पताल में दोपहर करीब ढाई बजे लगी। उन्होंने कहा कि प्रथम दृष्ट्या शॉर्ट सर्किट के कारण यह आग लगी। यह आग भूतल से शुरू हुई और देखते-देखते ऊपर की तीनों मंजिलों को इसने अपनी चपेट में ले लिया।

बहुगुणा ने बताया कि आग लगने के कारण अस्पताल के भूतल में स्थित बाह्य रोगी विभाग (ओपीडी) में मौजूद लोग बाहर आ गये थे। पहली मंजिल में स्थित आईसीयू वार्ड के लोग बाहर निकल पाते कि इसके पहले ही आग ने विकराल रूप धारण कर लिया। उन्होंने कहा कि सूचना मिलने पर दमकल व पुलिस विभाग के कर्मीघटनास्थल पहुंचे। उन्होंने आईसीयू से 13 व्यक्तियों को बाहर निकाला, जिनमें से कई आग से झुलस गये थे और कई धुएं के कारण सांस नहीं लेने के कारण बेहोश हो गये थे।

इन सभी को उपचार के लिए अस्पताल भेजा गया, जिनमें से आठ व्यक्तियों की मौत हो गयी तथा दो व्यक्तियों की हालत गंभीर है। तीन लोगों की हालत खतरे से बाहर है। मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया, ‘‘जबलपुर में बहुत दुर्भाग्यपूर्ण और दुखद घटना हुई है। मैं निरंतर जिला प्रशासन के संपर्क में हूं। आग पर काबू पाया जा चुका है। जो घायल हैं, उनको दूसरे अस्पताल में उपचार के लिए भेजकर बेहतर उपचार की व्यवस्था की जा रही है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मैंने जबलपुर के आयुक्त को घटना के जांच के आदेश दे दिए हैं।’’ चौहान ने कहा, ‘‘हम दुर्घटना के कारणों का भी पता करेंगे और दोषियों को दंडित भी करेंगे। फिलहाल हमारी प्राथमिकता है कि जो दुर्घटना में घायल हुए हैं, उनका समुचित उपचार हो जाये। मैं दुख की इस घड़ी में पीड़ित परिवारों के साथ खड़ा हूं और लगातार राहत और बचाव कार्यों की जानकारी ले रहा हूं।’’ मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘राज्य सरकार की ओर से मृतकों के परिजनों को पांच-पांच लाख रुपये और गंभीर रूप से घायलों को 50-50 हजार रुपये की सहायता प्रदान की जायेगी। घायलों के संपूर्ण इलाज का व्यय भी सरकार वहन करेगी।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़