प्रज्ञा ठाकुर को चुनावी मैदान में उतारकर मोदी ने की पाकिस्तान की मदद: मनीष तिवारी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 23, 2019   20:57
प्रज्ञा ठाकुर को चुनावी मैदान में उतारकर मोदी ने की पाकिस्तान की मदद: मनीष तिवारी

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मनीष तिवारी ने कहा कि आतंक के मामले में आरोपी प्रज्ञा ठाकुर को भोपाल से टिकट देकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पाकिस्तान और जेईएम प्रमुख मसूद अजहर का समर्थन किया है।

बंगा। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मनीष तिवारी ने मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर तंज कसा कि मालेगांव विस्फोट की आरोपी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को भोपाल संसदीय सीट से चुनाव में उतारकर वह पाकिस्तान और जैश ए मोहम्मद के प्रमुख मसूद अजहर की ‘‘काफी मदद’’ कर रहे हैं। तिवारी ने कहा कि कांग्रेस पंजाब में सभी 13 सीटों पर जीत हासिल करेगी जिसने हमेशा देश की धर्मनिरपेक्षता और देशभक्ति के मूल्यों की रक्षा की है। तिवारी ने यहां एक रोड शो के बाद कहा कि आतंक के मामले में आरोपी प्रज्ञा ठाकुर को भोपाल से टिकट देकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पाकिस्तान और जेईएम प्रमुख मसूद अजहर का समर्थन किया है।

इसे भी पढ़ें: अमित शाह ने हलफनामे में दी गलत जानकारी, कार्रवाई का आदेश दे EC: कांग्रेस

उन्होंने कहा कि एक तरफ आप पाकिस्तान पर दबाव बनाने का प्रयास कर रहे हैं और अजहर के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए अंतरराष्ट्रीय समर्थन मांग रहे हैं और दूसरी तरफ संसदीय चुनावों में आप आतंकवाद के आरोपी को मैदान में उतार रहे हैं। पूर्व केंद्रीय मंत्री आनंदपुर साहिब सीट से कांग्रेस के उम्मीदवार हैं। उन्होंने आरोप लगाए कि तुच्छ कारणों के लिए प्रधानमंत्री ने देश से अन्याय किया है। इसलिए ये चुनाव महत्वपूर्ण हैं अन्यथा हमारे देश के लोकतांत्रिक और धर्मनिरपेक्ष ढांचे को खतरा पैदा हो जाएगा। कांग्रेस नेता ने कहा कि पंजाब ने हमेशा सांप्रदायिक और विभाजनकारी ताकतों को नकारा है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।