मुठभेड़ मामला: राहुल ने बोला शाह पर हमला, स्मृति ईरानी ने किया पलटवार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 23, 2018   11:04
मुठभेड़ मामला: राहुल ने बोला शाह पर हमला, स्मृति ईरानी ने किया पलटवार

गांधी ने एक खबर शेयर करते हुए ट्वीट किया, ‘‘गीता में कहा गया है कि आप सच से कभी नहीं भा सकते और यह हमेशा से रहा है। संदीप तमगादगे ने अपने इकबालिया बयान में अमित शाह को मुख्य षड़यंत्रकारी बताया है।

नयी दिल्ली। सोहराबुद्दीन शेख और तुलसीराम प्रजापति की कथित फर्जी मुठभेड़ के संदर्भ में सीबीआई के एक प्रमुख जांच अधिकारी के इकबालिया बयान संबंधी खबर को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बृहस्पतिवार को भाजपा अध्यक्ष अमित शाह पर हमला बोला और कहा कि शाह सच से नहीं भाग सकते। इस पर पलटवार करते हुए केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि क्या‘झूठ की मशीन’ और ‘बेल धारक’ को याद नहीं है कि शाह बरी किए जा चुके हैं।

गांधी ने एक खबर शेयर करते हुए ट्वीट किया, ‘‘गीता में कहा गया है कि आप सच से कभी नहीं भा सकते और यह हमेशा से रहा है। संदीप तमगादगे ने अपने इकबालिया बयान में अमित शाह को मुख्य षड़यंत्रकारी बताया है। इस तरह के व्यक्ति का अध्यक्ष होना भाजपा के लिए पूरी तरह अनुचित है।’’ उन्होंने जो खबर शेयर की है उसमें एक सीबीआई जांच अधिकारी के हवाले से कहा गया है कि प्रजापति की मुठभेड़ में अमित शाह ‘मुख्य षड़यंत्रकारी’ हैं।

गांधी पर पलटवार करते हुए स्मृति ईरानी ने कहा, ‘‘झूठ की मशीन राहुल गांधी फिर से ऐक्शन में आ गए हैं। वह जानते हैं कि अदालत श्री अमित शाह को 2014 में बरी कर चुकी है। अदालत ने यह भी कहा था कि राजनीतिक कारणों से सीबीआई ने अमित शाह को फंसाया था। राहुल बताएंगे कि संप्रग सरकार में किसके आदेश पर यह हुआ था?’’ उन्होंने पूछा , ‘‘क्या नेशनल हेराल्ड लूट ‘बेल धारक’ राहुल गांधी को यह याद नहीं है कि उन्होंने अमित भाई को बरी किए जाने को चुनौती देने के लिए (कपिल) सिब्बल को भेजा था और याचिका खारिज हो गई?’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे पूरा विश्वास है कि अगर राहुल गांधी ने जिंदगी में एक बार भी गीता खोली होती तो वह इस तरह के कोरे झूठ में नहीं पड़ते।’’ गौरतलब है कि इस मामले में अमित शाह और कुछ अन्य लोग बरी हो चुके हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...