गहलोत ने राजस्थान के सभी विधायकों को गिफ्ट किया iPhone 13, बीजेपी MLA ने वापस लौटाने का किया ऐलान

गहलोत ने राजस्थान के सभी विधायकों को गिफ्ट किया iPhone 13, बीजेपी MLA ने वापस लौटाने का किया ऐलान

अशोक गहलोत सरकार की तरफ से आईफोन 13 दिए जाने के बाद अब इस कदम का विरोध भी शुरू हो गया है। राज्य के बीजेपी विधायक राजस्थान सरकार की तरफ से दिए गए आईफोन 13 वापस करेंगे।

अशोक गहलोत सरकार ने राजस्थान में बजट 2022 पेश किया। सबसे बड़ी हाइलाइट इस बजट की रही की पुरानी पेंशन को लागू किए जाने का ऐलान किया। उत्तर प्रदेश में ये सपा और कांग्रेस की तरफ से चुनावी मुद्दा भी रहा है। कांग्रेस सरकार के इस कदम से 2024 के चुनाव को एक नई दिशा देने की कोशिश की गई है। लेकिन इसके साथ ही गहलोत सरकार के इस बजट का सबसे चर्चित ऐलान रहा सभी विधायकों को  आईफोन 13 दिया जाना। चाहे वो कांग्रेस का विधायक हो या बीजेपी का राज्य की विधानसभा के सभी 200 विधायकों को आईफोन 13 गिफ्ट किया गया।  एक आईफोन 13 की कीमत 75 हजार से 1 लाख रुपये बताई जा रही है।

इसे भी पढ़ें: Rajasthan Budget 2022: शिक्षा के क्षेत्र में बड़ी सौगात, 33 लाख महिलाओं को स्मार्टफोन, बजट में हुईं ये बड़ी घोषणाएं

अशोक गहलोत सरकार की तरफ से आईफोन 13 दिए जाने के बाद अब इस कदम का विरोध भी शुरू हो गया है। राज्य के बीजेपी विधायक राजस्थान सरकार की तरफ से दिए गए आईफोन 13 वापस करेंगे। बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने इसके बारे में ट्वीट करते हुए कहा कि राज्य सरकार पर पड़ने वाले वित्तीय भार को दृष्टिगत रखते हुए कांग्रेस सरकार द्वारा दिए गए आईफोन को वापस करेंगे। पूनिया ने कहा कि नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया और उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ समेत अन्य विधायकों से इस मसले पर चर्चा करने के बाद ये फैसला लिया गया है।  

इसे भी पढ़ें: वासुदेव देवनानी ने किया गोविंद सिंह डोटासरा पर पलटवार, बोले- उनका महाराणा प्रताप पर बयान प्रताप का अपमान

बताया जा रहा है कि कांग्रेस सरकार की तरफ से हाल ही में 250 आईफोन खरीदे गए थे। वैसे ये कोई पहली बार नहीं है जब कि विधायकों को महंगे गिफ्ट दिए गए हो। इससे पहले विधायकों को एपल के आईपैड दिए गए थे। उससे पहले वाले बजट के समय लैपटॉप दिए गए थे। जयपुर में विधायकों के नए लग्जरी आवास भी बन रहे हैं।  

 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।