गहलोत के आर्थिक सलाहकार के ट्वीट से मचा घमासान, पायलट को लेकर कही यह बात

गहलोत के आर्थिक सलाहकार के ट्वीट से मचा घमासान, पायलट को लेकर कही यह बात

पूर्व केंद्रीय वित्त सचिव अरविंद मायाराम ने एक कार्टून ट्वीट किया है। इस कार्टून में पायलट की भर्ती को लेकर तंज कसा गया है और लिखा गया कि शैतानी बुद्धि !

जयपुर। राजस्थान कांग्रेस में घमासान जारी है। इस बार मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के आर्थिक सलाहकार और पूर्व केंद्रीय वित्त सचिव अरविंद मायाराम द्वारा किए गए ट्वीट की वजह से विवाद बढ़ गया और राजनीतिक गलियारों से लेकर सचिवालय तक चर्चा का विषय बन गया। पूर्व केंद्रीय वित्त सचिव अरविंद मायाराम ने एक कार्टून ट्वीट किया है। इस कार्टून में पायलट की भर्ती को लेकर तंज कसा गया है और लिखा गया कि शैतानी बुद्धि! 

इसे भी पढ़ें: राजस्थान कांग्रेस कलह पर बोले इंद्रराज मीणा, सचिन पायलट बाहरी नहीं भारी है 

अरविंद मायाराम ने जो कार्टून साझा किया है, उसमें लिखा है हायरिंग पालट्स। तीन लोग इंटरव्यू ले रहे हैं और सामने एक व्यक्ति पायलट की नौकरी के लिए इंटरव्यू दे रहा है। कार्टून के मुताबिक इंटरव्यू दे रहे शख्स ने कहा कि मेरे पास पायलट का लाइसेंस और या उड़ान का कोई अनुभव नहीं है। मुझे रद्द की गई फ्लाइट्स के लिए भर्ती कर लीजिए।

अरविंद मायाराम के ट्वीट को पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट से जोड़कर देखा जा रहा है। विपक्ष के उपनेता राजेंद्र राठौड़ ने अरविंद मायाराम के ट्वीट को रिट्वीट करते हुए लिखा कि वाह क्या गजब की टाइमिंग है... मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जी के आर्थिक मामलों के सलाहकार अब राजनीतिक सलाहकार की भूमिका भी निभा रहे हैं। मुख्यमंत्री जी के खेमे में राजनीतिक सलाहकारों की कमी सोचनीय है। वैसे सरकार को हैरान-परेशान करने के लिए एक ही पायलट काफी है। 

इसे भी पढ़ें: कोविड-19 की तीसरी लहर से मुकाबले के लिए स्वास्थ्य ढांचे को कर रहे मजबूत : गहलोत 

इसके साथ ही उन्होंने लिखा कि जब बिना लाइसेंस के पायलट और आ गए तो हालात क्या होंगे। हो सकता है कार्टून वाले पायलट के पास योग्यता व लाइसेंस ना हो लेकिन सरकार के लिए मुसीबत बने पायलट के पास योग्यता भी है और लाइसेंस भी। ऐसे में अब बिना योग्यता व लाइसेंस के पायलटों की भर्ती सरकार के लिए गले की फांस बन सकती है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।