राज्यपाल, उपराज्यपाल की देश की संवैधानिक व्यवस्था में महत्वपूर्ण भूमिका: राष्ट्रपति

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 23, 2019   15:30
राज्यपाल, उपराज्यपाल की देश की संवैधानिक व्यवस्था में महत्वपूर्ण भूमिका: राष्ट्रपति

आदिवासी कल्याण का जिक्र करते हुए कोविंद ने कहा कि उनका विकास और सशक्तिकरण तथा देश की आंतरिक सुरक्षा समावेशी विकास से जुड़ी हुई होती है।

नयी दिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शनिवार को कहा कि देश की संवैधानिक व्यवस्था में राज्यपाल और उपराज्यपाल की महत्वपूर्ण भूमिका होती है, खास तौर पर तब जब सहकारी एवं प्रतिस्पर्धी संघवाद की बात होती है। 

राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के राज्यपालों एवं उपराज्यपालों के 50वें सम्मेलन को संबोधित करते हुए कोविंद ने कहा, ‘‘आज जब देश की प्रगति के हित में सहकारी संघवाद और स्वस्थ प्रतिस्पर्धी संघवाद पर जोर दिया जाता है तो राज्यपाल की भूमिका और महत्वपूर्ण हो गई है।’’ 

इसे भी पढ़ें: बीजेपी के दिग्गज नेता के भतीजे को लेकर साथ अजित ने महाराष्ट्र की राजनीति में किया सर्जिकल स्ट्राइक

आदिवासी कल्याण का जिक्र करते हुए कोविंद ने कहा कि उनका विकास और सशक्तिकरण तथा देश की आंतरिक सुरक्षा समावेशी विकास से जुड़ी हुई होती है। राष्ट्रपति ने कहा, ‘‘राज्यपाल उनको प्रदत्त संवैधानिक अधिकार का उपयोग करके उपयुक्त मार्गदर्शन प्रदान कर सकते हैं ताकि विकास की राह में पीछे छूट गए लोगों के जीवन को बेहतर बनाया जा सके।’’ 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...