देशभक्तों की भूमि से आता हूं और विश्वासघाती नहीं हूं: शुभेंदु अधिकारी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 28, 2020   08:09
देशभक्तों की भूमि से आता हूं और विश्वासघाती नहीं हूं: शुभेंदु अधिकारी

वर्ष 2007 में हुए नंदीग्राम आंदोलन में अहम भूमिका निभाने वाले अधिकारी ने कहा, तृणमूल का 2003 के पंचायत चुनावों में सफाया हो गया था और 2004 में वह एक सांसद वाली पार्टी रह गयी थी। पार्टी ने 2009 में पश्चिम मेदिनीपुर जिले से ही वापसी की थी।

दंतन (पश्चिम बंगाल)। हाल ही में तृणमूल कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए शुभेंदु अधिकारी ने कहा कि वह विश्वासघाती नहीं हैं, जैसा उनकी पिछली पार्टी उन्हें बता रही है। उन्होंने कहा कि वह मेदिनीपुर से आते हैं, जो देशभक्तों की भूमि रही है। अधिकारी ने दावा किया कि उन्होंने जरूरत के समय तृणमूल को ‘ऑक्सीजन’ दिया। वर्ष 2007 में हुए नंदीग्राम आंदोलन में अहम भूमिका निभाने वाले अधिकारी ने कहा, तृणमूल का 2003 के पंचायत चुनावों में सफाया हो गया था और 2004 में वह एक सांसद वाली पार्टी रह गयी थी। पार्टी ने 2009 में पश्चिम मेदिनीपुर जिले से ही वापसी की थी।’’

राज्य के पूर्व परिवहन मंत्री ने कहा, ममता बनर्जी सरकार में हर पद से इस्तीफा देने के बाद बतौर एक सामान्य मतदाता किसी भी राजनीतिक दल में शामिल होना मेरा अधिकार है। अधिकारी ने आरोप लगाया कि तृणमूल सरकार केंद्रीय योजनाओं के नाम बदलकर यह दावा करती है कि उन्हें राज्य प्रशासन ने शुरू किया है। अधिकारी पश्चिम मेदिनीपुर जिले के इस मुफस्सिल शहर में रोड शो का नेतृत्व करने के बाद एक विशाल रैली को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने आरोप लगाया कि तृणमूल अपना नेतृत्व सिर्फ कोलकाता तक केंद्रित रखती है और ग्रामीण क्षेत्रों को प्रतिनिधित्व नहीं दिया जाता। 

इसे भी पढ़ें: शुभेंदु अधिकारी ने भाजपा में शामिल होने के फैसले को बताया सही, बोले- जनता ने भी किया मंजूर

उन्होंने कहा कि तृणमूल के 21 लोकसभा सांसदों में से दस और अधिकतर मंत्री कोलकाता से हैं। भाजपा नेता ने कहा, ‘‘मैं विश्वासघाती नहीं हूं। मैं मेदिनीपुर से आता हूं जो मातंगिनी हाजरा, खुदीराम बोस और ईश्वर चंद्र विद्यासागर जैसे देशभक्तों की भूमि है। मैं उस विरासत का वंशज हूं। उन्होंने किसी का नाम लिए बिना कहा कि 2011 में पार्टी में शामिल होने के बाद डायमंड हार्बर से सांसद बने नेता बड़े-बड़े दावे कर रहे हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।