श्रीलंकाई राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे का राष्ट्रपति भवन में हुआ स्वागत, द्विपक्षीय संबंधों पर हुई चर्चा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 29, 2019   13:29
श्रीलंकाई राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे का राष्ट्रपति भवन में हुआ स्वागत, द्विपक्षीय संबंधों पर हुई चर्चा

गोटबाया तीन दिवसीय दौरे पर गुरुवार को भारत पहुंचे। राष्ट्रपति बनने के बाद यह उनका पहला विदेश दौरा है जो दिखाता है कि भारत के साथ संबंधों को वह कितना महत्व देते हैं।

नयी दिल्ली। भारत के तीन दिवसीय दौरे पर आए श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने शुक्रवार को कहा कि वह भारत के साथ अपने देश के संबंधों को “बहुत ऊंचे स्तर” पर ले जाना चाहते हैं।

इसे भी पढ़ें: पहली विदेश यात्रा में भारत पहुंचे श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे, आज होगी PM मोदी से मुलाकात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गोटबाया के बीच व्यापक द्विपक्षीय संबंधों पर चर्चा हो रही है। इस दौरान श्रीलंका स्थित तमिल समुदाय की आकांक्षाएं पूरी करने संबंधी मुद्दा, हिंद महासागर क्षेत्र में हालात, कारोबार तथा निवेश संबंधों को बढ़ाने जैसे मुद्दे पर बातचीत होने की उम्मीद है। 

गोटबाया तीन दिवसीय दौरे पर गुरुवार को भारत पहुंचे। राष्ट्रपति बनने के बाद यह उनका पहला विदेश दौरा है जो दिखाता है कि भारत के साथ संबंधों को वह कितना महत्व देते हैं। श्रीलंकाई राष्ट्रपति ने कहा कि इस दौरे से उन्हें बहुत उम्मीदें हैं। गोटबाया ने कहा कि राष्ट्रपति के रूप में अपने कार्यकाल में मैं भारत और श्रीलंका के बीच संबंधों को बहुत ऊंचे स्तर पर ले जाना चाहता हूं। ऐतिहासिक रूप से और राजनीतिक तौर पर भी हमारे बीच दीर्घकालीन संबंध रहे हैं।

राष्ट्रपति भवन में रस्मी स्वागत के बाद गोटबाया ने यहां संवाददाताओं से कहा कि सुरक्षा से संबंधित मुद्दों पर और दोनों देशों की जनता के कल्याण की खातिर भारत और श्रीलंका को मिलकर काम करने की जरूरत है। इससे पहले आज सुबह राष्ट्रपति भवन के प्रांगण में गोटबाया का परंपरागत रूप से स्वागत किया गया। इस मौके पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मौजूद थे।

इसे भी पढ़ें: श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने अपनी मंत्रिपरिषद का विस्तार किया

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने भी श्रीलंका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति से शुक्रवार को मुलाकात की। अधिकारियों ने बताया कि इस दौरान विदेश मंत्री और श्रीलंका के राष्ट्रपति के बीच द्विपक्षीय और क्षेत्रीय मुद्दों पर चर्चा हुई। गोटबाया ने बीते 18 नवंबर को श्रीलंका के राष्ट्रपति पद की शपथ ली थी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।