गरीबों के हित में मोदी कैबिनेट की बैठक में लिया गया अहम फैसला, पीएम अन्न योजना को 6 महीने बढ़ाने की दी मंजूरी

गरीबों के हित में मोदी कैबिनेट की बैठक में लिया गया अहम फैसला, पीएम अन्न योजना को 6 महीने बढ़ाने की दी मंजूरी

पीएम मोदी ने कहा कि भारतवर्ष का सामर्थ्य देश के एक-एक नागरिक की शक्ति में समाहित है। इस शक्ति को और मजबूती देने के लिए सरकार ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना को 6 महीने और बढ़ाकर सितंबर 2022 तक जारी रखने का निर्णय लिया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने आज बैठक में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना को छह महीने तक बढ़ाने का फैसला किया। इस योजना का उद्देश्य देश के 80 करोड़ से अधिक लोगों की मदद करना है। मार्च 2020 में शुरू की गई इस योजना को बाद में मार्च 2022 तक बढ़ा दिया गया था। पीएम मोदी ने कहा कि भारतवर्ष का सामर्थ्य देश के एक-एक नागरिक की शक्ति में समाहित है। इस शक्ति को और मजबूती देने के लिए सरकार ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना को 6 महीने और बढ़ाकर सितंबर 2022 तक जारी रखने का निर्णय लिया है। 

इसे भी पढ़ें: ईंधन की कीमतों में बढ़ोतरी पर कांग्रेस का 'महंगाई मुक्त भारत अभियान अभियान', बताया जीत के जश्न का ‘साइड इफेक्ट’

पीएम मोदी ने कहा कि देश के 80 करोड़ से अधिक लोग पहले की तरह इसका लाभ उठा सकेंगे। केंद्र सरकार इस योजना के तहत हर महीने 5 किलो अनाज मुफ्त देती है। अतिरिक्त मुफ्त अनाज एनएफएसए के तहत प्रदान किए गए सामान्य कोटे से अधिक है, जो अत्यधिक रियायती दर पर 2-3 रुपये प्रति किलोग्राम है। केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक नई दिल्ली में प्रधानमंत्री आवास पर शाम 4.30 बजे शुरू हुई। बैठक की अध्यक्षता प्रधानमंत्री मोदी ने की। गौरतलब है कि आज एक सप्ताह के भीतर केंद्रीय कैबिनेट की यह दूसरी बैठक हो रही है। बैठक में कई शीर्ष मंत्रियों की मौजूदगी रही। 

इसे भी पढ़ें: चीन की नेपाल पर बुरी नजर! श्रीलंका दौरा रोक पीएम मोदी से मिलने भारत आ रहे देउबा

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना जरूरतमंद लोगों को मुफ्त भोजन प्रदान करती है। मार्च 2020 में पहले लॉकडाउन की घोषणा के दौरान सरकार पीएम गरीब कल्याण योजना लेकर आई थी, जिसके तहत गरीबों के लिए 1.75 लाख करोड़ रुपये के पैकेज की घोषणा की गई थी। भारत में पहली कोविड लहर के दौरान, लगभग 120 मिलियन प्रवासी श्रमिकों ने नौकरी खो दी थी, जिससे सरकार को गरीबों के लिए मुफ्त भोजन योजना जैसे कदम उठाने पड़े। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।