ओडिशा में कोरोना के मामले बढ़कर 3,34,150 हुए, अब तक 1904 मरीजों की मौत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 23, 2021   15:29
ओडिशा में कोरोना के मामले बढ़कर 3,34,150 हुए, अब तक 1904 मरीजों की मौत

ओडिशा में कोविड-19 के मामले बढ़कर 3,34,150 हुए।अधिकारी ने बताया कि करीब 1,30,007 अग्रिम स्वास्थ्य कर्मियों को राज्य में कोविड-19 के टीके लग चुके हैं। सरकार ने 25 जनवरी तक सभी 3.28 अग्रिम कर्मियों को टीके लगाने का लक्ष्य रखा है।

भुवनेश्वर।ओडिशा में कोविड-19 के 130 नए मामले सामने आने के बाद राज्य में संक्रमण के मामले बढ़कर शनिवार को 3,34,150 हो गए। वहीं एक और व्यक्ति की इस वायरस से मौत के बाद मृतक संख्या बढ़कर 1,904 हो गई। स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि नए मामले राज्य के 30 जिलों में से 23 में सामने आए। 76 नए मामले पृथक केन्द्रों और 54 पहले से संक्रमित लोगों के सम्पर्क में आए लोगों की पहचान के क्रम में सामने आए। उन्होंने बताया कि सुंदरगढ़ जिले में सबसे अधिक 14, बारगढ़ में 13 और अंगुल में 12 नए मामले सामने आए। अधिकारी ने बताया कि करीब 1,30,007 अग्रिम स्वास्थ्य कर्मियों को राज्य में कोविड-19 के टीके लग चुके हैं। सरकार ने 25 जनवरी तक सभी 3.28 अग्रिम कर्मियों को टीके लगाने का लक्ष्य रखा है।

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में सर्दी से मिली थोड़ी राहत, न्यूनतम तापमान आठ डिग्री सेल्सियस तक हुआ दर्ज

इस बीच, ‘कोवैक्सीन’ टीके की दूसरी खेप भी शनिवार को राज्य सरकार को मिल गई। अधिकारी ने बताया कि राज्य में अभी 1,436 लोगों का कोरोना वायरस संक्रमण का इलाज चल रहा है और 3,30,757 लोग संक्रमण मुकत हो चुके हैं। उन्होंने बताया कि खुर्दा जिले में वायरस एक व्यक्ति की मौत के बाद राज्य में मृतक संख्या बढ़कर 1,904 हो गई। इनके अलावा, राज्य में कोविड-19 के 53 मरीजों की मौत अन्य बीमारियों के कारण हुई, जिससे वे पहले से ही पीड़ित थे। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार राज्य में अभी तक 75.25 लाख से अधिक नमूनों की कोविड-19 संबंधी जांच की गई है। यहां संक्रमण की दर 4.44 प्रतिशत है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।