'पावर ऑफ सेल्फ रिफ्लेक्शन' पेंटिंग प्रदर्शनी का शुभारंभ, प्रो. द्विवेदी बोले- जिंदगी के रंगों को दिखाती हैं राजीव मिश्रा की पेंटिंग्स

painting exbition
PR
कलाकार की कल्पना शक्ति समाज की हर बारीकियों को समझती है और उसी कल्पना शक्ति को वह कैनवास पर उतारता है। कलाकार की तारीफ तभी हो जाती है, जब दर्शक बोलें कि हर पेटिंग कुछ कहती है।

नई दिल्ली। प्रख्यात चित्रकार राजीव मिश्रा की समकालीन कलाकृतियों पर आधारित पेंटिंग प्रदर्शनी 'पावर ऑफ सेल्फ रिफ्लेक्शन' का शुभारंभ करते हुए भारतीय जन संचार संस्थान (आईआईएमसी) के महानिदेशक प्रो. संजय द्विवेदी ने कहा कि कलाकार की खासियत होती है कि उसे दर्शकों को पेंटिंग के बारे में कुछ भी बताने की जरुरत नहीं पड़ती। बिना बोले ही दर्शक पेंटिंग को समझ जाते हैं। कलाकार की कल्पना शक्ति समाज की हर बारीकियों को समझती है और उसी कल्पना शक्ति को वह कैनवास पर उतारता है। कलाकार की तारीफ तभी हो जाती है, जब दर्शक बोलें कि हर पेटिंग कुछ कहती है। राजीव मिश्रा की कलाकृतियों की यही खासियत है। अपनी कलाकृतियों के माध्यम से राजीव मिश्रा दर्शकों को जीवन की अनूठी यात्रा पर ले जाते हैं। प्रदर्शनी का आयोजन दिल्ली के रवींद्र भवन में 30 नवंबर से 6 दिसंबर, 2022 को किया जा रहा है।

इसे भी पढ़ें: IIMC के सत्रारंभ समारोह का समापन, प्रो. नागेश्वर राव ने कहा- पत्रकारिता के लिए जरूरी है सृजनात्मकता

प्रो. द्विवेदी ने कहा कि पेंटिंग से कलाकार के व्यक्तित्व का पता चलता है। उसकी सोच, कल्पना शक्ति कैसी है, इस बात की जानकारी होती है। राजीव मिश्रा की पेंटिंग्स में रंगों के साथ संस्कार भी समाहित हैं। उन्होंने कहा कि राजीव मिश्रा की कलाकृतियों को देखने के बाद यह तय करना मुश्किल लगता है कि किसे सर्वश्रेष्ठ कहा जाए, क्योंकि सभी कलाकृतियां असाधारण हैं। आईआईएमसी के महानिदेशक ने राजीव मिश्रा की 'गौशाला' परिकल्पना को असाधारण बताते हुए कहा कि कोई भी घर पेंटिंग के बिना पूरा नहीं हो सकता। जिस घर में पेंटिंग है, वही घर पूर्ण है। खुद का खुद से परिचय कराती ये कलाकृतियां आपको पूर्णता का अनुभव कराती हैं।

इसे भी पढ़ें: आईआईएमसी का सत्रारंभ समारोह सोमवार से, राज्यसभा के उपसभापति करेंगे शुभारंभ

'पावर ऑफ सेल्फ रिफ्लेक्शन' एक अनोखी प्रदर्शनी है, जिसमें राजीव मिश्रा की 75 कलाकृतियों को प्रस्तुत किया गया है। इस प्रदर्शनी के माध्यम से आत्म प्रतिबिंब की शक्ति को राजीव मिश्रा ने अपने कैनवास पर उकेरा है। इस अवसर पर राजीव मिश्रा ने कहा कि वैसे तो सभी पेंटिंग्स उनके दिल के बेहद करीब हैं, लेकिन 'गौशाला' पर बनी पेंटिंग्स कई मायनों में बेहद महत्वपूर्ण हैं। उन्होंने कहा कि हमारा प्रयास है कि लोग इन पेटिंग्स को देखने का नहीं, बल्कि समझने का प्रयास करें। प्रदर्शनी का आयोजन सोमवार से शनिवार प्रात: 11 बजे से सायं 7 बजे तक ललित कला अकादमी, रवींद्र भवन, नई दिल्ली में किया जा रहा है। प्रदर्शनी के संबंध में ज्यादा जानकारी के लिए मोबाइल नंबर 8009448870 एवं 9935873681 पर संपर्क किया जा सकता है।

अन्य न्यूज़