भ्रष्ट पुलिस का पर्दाफाश करने के लिए जापान के इस नागरिक ने किया यह काम!

भ्रष्ट पुलिस का पर्दाफाश करने के लिए जापान के इस नागरिक ने किया यह काम!

टीओआई की एक खबर के मुताबिक, 31 वर्षीय हीरोतोशी तनाका 2019 में अंग्रेजी सीखने के लिए बेंगलुरु आया था लेकिन बाद में उसके खिलाफ एक ‘झूठा’ मामला दर्ज कर दिया गया जिसे कारण उसे जेल भा जाना पड़ गया।

कर्नाटक में 31 वर्षीय जापानी नागरिक ने शनिवार आधी रात को जेसी नगर एसीपी के कार्यालय से एक स्टील की कुर्सी चुराई फिर उसके साथ सेल्फी ली और उस चोरी की गई कुर्सी को अपने साथ घर ले गया। जापान के  इस नागरिक का ऐसा करने का कारण केवल पुलिस को बेनकाब करना था। बता दें कि पुलिस अधिकारियों ने 28 फरवरी को हीरोतोशी तनाका को भारत छोड़ने का आदेश दिया था, और उसने सोचा कि यहां वापस रहने का सबसे अच्छा तरीका गिरफ्तार होना है। 

इसे भी पढ़ें: फारूक अब्दुल्ला के खिलाफ याचिका खारिज, सरकार से अलग विचार होना राजद्रोह नहीं: SC

टीओआई की एक खबर के मुताबिक, 31 वर्षीय हीरोतोशी तनाका 2019 में अंग्रेजी सीखने के लिए बेंगलुरु आया था लेकिन बाद में उसके खिलाफ एक ‘झूठा’ मामला दर्ज कर दिया गया जिसे कारण उसे जेल भा जाना पड़ गया। कर्नाटक हाई कोर्ट ने हीरोतोशी के खिलाफ एफआईआर रद्द कर दी, लेकिन FRRO (foreigners regional registration office) ने हीरोतोशी को भारत से बाहर निकलने के लिए 28 फरवरी की डेडलाइन सौंप दी थी। जापानी नागरिक का कहना है कि वह एक सेवानिवृत्त जापानी पुलिस का बेटा है और वह अपनी गरिमा के साथ भारत छोड़ना चाहता है।

इसे भी पढ़ें: कर्नाटक के मंत्री रमेश जारकिहोली पर लगे यौन शोषण के आरोप, दिया इस्तीफा

हीरोतोशी ने मांग की है कि, उसे अरेस्ट किया जाए ताकि वह जेल में ही रहकर अपना खर्चा निकाल सके। उसने कहा कि,  ‘मैं यहां रहने की स्थिति में नहीं हूं। मेरे खर्चों को पूरा करने में हर महीने लगभग 30,000 रुपये लगते हैं। मेरे लिए जेल से लड़ना बेहतर होगा ताकि मुझे मुफ्त में भोजन और दवाइयाँ मिलें। ”जानकारी के मुताहिक, हीरोतोशी के साथ हुआ मारपीट के बाद पुलिस ने उसे मामले को रफा-दफा करने के लिए रिश्वत मांगी थी लेकिन उसके मना करने पर हीरोतोशी को पुलिस ने 10 दिनों तक जेल में रखा। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept