जयललिता की करीबी शशिकला की हालत में सुधार, भतीजे ने बताया सेहत का हाल

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 21, 2021   16:41
  • Like
जयललिता की करीबी शशिकला की हालत में सुधार, भतीजे ने बताया सेहत का हाल

अन्नाद्रमुक से निष्कासित वी के शशिकला की स्वास्थ्य स्थिति सामान्य तथा स्थिर है लेकिन उनकी सीटी स्कैन तथा अन्य जांच की जाएंगी। बोरिंग अस्पताल के निदेशक डॉक्टर मनोज कुमार एच वी ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी।

बेंगलुरु। अन्नाद्रमुक से निष्कासित वी के शशिकला की स्वास्थ्य स्थिति सामान्य तथा स्थिर है लेकिन उनकी सीटी स्कैन तथा अन्य जांच की जाएंगी। बोरिंग अस्पताल के निदेशक डॉक्टर मनोज कुमार एच वी ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी। डॉक्टर के अनुसार शशिकला की कोविड-19 जांच की गई जिसमें उनके कोरोना वायरस से संक्रमित नहीं होने की पुष्टि हुई है। तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जे जयललिता की करीबी सहयोगी रहीं शशिकला यहां परप्पना अग्रहारा कारागार में सजा काट रही हैं।

इसे भी पढ़ें: केरल विधानसभा अध्यक्ष के खिलाफ सदन में अविश्वास प्रस्ताव पेश हुआ

अपनी रिहाई से एक सप्ताह पहले बुधवार को उन्होंने बुखार और सांस लेने में तकलीफ की शिकायत की, जिसके बाद उन्हें जेल से बोरिंग अस्पताल के नाम से चर्चित बोरिंग एंड लेडी कर्जन मेडिकल कॉलेज एंड रिसर्च इंस्टिट्यूट ले जाया गया। बुधवार शाम जब उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया तो उनका ऑक्सीजन स्तर 80 था। ऑक्सीजन का स्तर 95 या उससे अधिक रहना सामान्य माना जाता है। कुमार ने पत्रकारों से कहा, उन्हें सांस लेने में तकलीफ हो रही थी। उसी के अनुसार हमने उनका इलाज किया। अब उनके शरीर में ऑक्सीजन का स्तर 96 यानी सामान्य है।

इसे भी पढ़ें: कोविड-19 इलाज दरों को क्लीनिक और नर्सिग होम में प्रदर्शित करने के र्निदेश

उनकी स्वास्थ्य स्थिति स्थिर है। डॉक्टर के अनुसार आज सुबह शशिकला ने चहलकदमी भी की। कुमार ने कहा कि उन्हें सीटी स्कैन के लिए विक्टोरिया अस्पताल भेजा गया है। जांच के बाद उन्हें वापस बोरिंग अस्पताल लाया जाएगा। इसके अलावा उनकी रैपिड एंटीजन तथा आरटी-पीसीआर जांच भी की गईं, जिनकी रिपोर्ट में उनके कोरोना वायरस से संक्रमित न होने की पुष्टि हुई। आय के ज्ञात स्रोत से 66 करोड़ रुपये ज्यादा की संपत्ति के मामले में फरवरी 2017 में चार साल कैद की सजा पाने वाली शशिकला को यहां पराप्पना अग्रहारा जेल में रखा गया है। उनकी बीमारी ऐसे समय सामने आई है जब एक हफ्ते बाद 27 जनवरी को वह जेल से रिहा की जाने वाली हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


अंडमान निकोबार द्वीपसमूह में कोविड-19 का कोई नया मामला नहीं

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 25, 2021   15:31
  • Like
अंडमान निकोबार द्वीपसमूह में कोविड-19 का कोई नया मामला नहीं

अंडमान एवं निकोबार द्वीपसमूह में पिछले 24 घंटे में कोविड-19 का कोई नया मामला सामने नहीं आया है। स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि केन्द्र शासित प्रदेश में संक्रमण के कुल मामलों की संख्या 5,016 है और एक व्यक्ति के ठीक होने के बाद संक्रमण मुक्त हुए लोगों की संख्या बढ़कर 4,950 हो गई।

पोर्ट ब्लेयर। अंडमान एवं निकोबार द्वीपसमूह में पिछले 24 घंटे में कोविड-19 का कोई नया मामला सामने नहीं आया है। स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि केन्द्र शासित प्रदेश में संक्रमण के कुल मामलों की संख्या 5,016 है और एक व्यक्ति के ठीक होने के बाद संक्रमण मुक्त हुए लोगों की संख्या बढ़कर 4,950 हो गई।

इसे भी पढ़ें: राष्ट्रपुरुष हैं PM मोदी, उनके नाम पर स्टेडियम होने पर नहीं होनी चाहिए आपत्ति: बाबा रामदेव

अधिकारी ने बताया कि अंडमान एवं निकोबार द्वीपसमूह मेंसंक्रमण से कुल 62 लोगों की मौत हुई है। अधिकारी ने बताया कि प्रशासन ने अब तक कुल 2.63 लाख से अधिक नमूनों की कोविड-19 संबंधी जांच की है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


महाराष्ट्र सरकार महिला की मौत मामले में मंत्री को बचा रही : भाजपा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 25, 2021   15:25
  • Like
महाराष्ट्र सरकार महिला की मौत मामले में मंत्री को बचा रही : भाजपा

महाराष्ट्र की भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष चित्रा वाघ ने बृहस्पतिवार को आरोप लगाया कि राज्य सरकार मंत्री संजय राठौड़ को बचा रही है जिनका नाम एक महिला की मौत के मामले से जुड़ रहा है।

पुणे। महाराष्ट्र की भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष चित्रा वाघ ने बृहस्पतिवार को आरोप लगाया कि राज्य सरकार मंत्री संजय राठौड़ को बचा रही है जिनका नाम एक महिला की मौत के मामले से जुड़ रहा है। उन्होंने मंत्री के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। उल्लेखनीय है कि आठ फरवरी को पुणे के हडपसर इलाके स्थित एक इमारत से कथित तौर पर गिरने से उक्त महिला की मौत हो गई थी। वाघ बृहस्पतिवार को घटनास्थल पर गईं और पुणे के पुलिस उपायुक्त अमिताभ गुप्ता से इस मामले को लेकर मुलाकात की।

इसे भी पढ़ें: किसी अन्य देश के राज्येत्तर तत्व से निपटने के लिए पहले ही हमला किया जा सकता है : भारत

राठौड़ ने मंगलवार को उनपर लगे आरोपों को खारिज करते हुए दावा किया कि महिला की मौत के बाद ‘गंदी राजनीति’ हो रही है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मामले की जांचके आदेश दिए हैं और पुलिस अपना काम कर रही है। यहां संवाददाताओं से बृहस्पतिवार को बात करते हुए वाघ ने कहा कि सत्तारूढ़ महा विकास आघाडी के साझेदार राठौड़ को बचाने में एकजुट हैं।

इसे भी पढ़ें: मूडीज ने बढ़ाया भारत की आर्थिक वृद्धि का अनुमान, जानिए कितने प्रतिशत रहेगी वृद्धि

भाजपा नेता ने कहा, ‘‘ हमें मंत्री से कोई उम्मीद नहीं है लेकिन कम से कम मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे संवेदनशील व्यक्ति हैं और उन्हें राठौड़ के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए।’’ महिला की मौत के बाद मृतका द्वारा कथित रूप से दो व्यक्तियों की बातचीत की ऑडियो क्लिप सामने आयी है। वनवाडी पुलिस थाने के मुताबिक उसने दुर्घटनावश मौत का मामला दर्ज किया है और कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। वाघ ने कहा, ‘‘हमारा मानना है कि ऑडियो क्लिप में सुनाई दे रही एक आवाज संजय राठौड़ की है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन वनवाडी पुलिस राठौड़ के खिलाफ मामला नहीं दर्ज कर रही है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


राष्ट्रपुरुष हैं PM मोदी, उनके नाम पर स्टेडियम होने पर नहीं होनी चाहिए आपत्ति: बाबा रामदेव

  •  अनुराग गुप्ता
  •  फरवरी 25, 2021   15:25
  • Like
राष्ट्रपुरुष हैं PM मोदी, उनके नाम पर स्टेडियम होने पर नहीं होनी चाहिए आपत्ति: बाबा रामदेव

योगगुरू बाबा रामदेव ने कहा कि इस देश में कुछ गिने-चुने खानदानों के नाम पर ही सारे एयरपोर्ट, संस्थान हैं, ऐसा क्यों है ?

नयी दिल्ली। योगगुरू बाबा रामदेव ने मोटेरा स्टेडियम का नाम बदलकर नरेंद्र मोदी स्टेडियम किए जाने पर प्रशंसा जाहिर की और विरोधियों पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि इस देश में कुछ गिने-चुने खानदानों के नाम पर ही सारे एयरपोर्ट, संस्थान हैं, ऐसा क्यों है ? दरअसल, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी समेत कई कांग्रेसियों ने स्टेडियम का नाम बदलने पर मोदी सरकार की आलोचना की। 

इसे भी पढ़ें: गुजरात स्टेडियम से सरदार पटेल का नाम हटाना प्रत्येक भारतीय का अपमान : कांग्रेस

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा था कि सुंदर सच्चाई कैसे खुद-ब-खुद सामने आ जाती है। नरेंद्र मोदी स्टेडियम, अडाणी एंड, रिलायंस एंड, जय शाह की अध्यक्षता कर रहे हैं। राहुल गांधी ने यह ट्वीट 'हम दो हमारे दो' हैशटैग के साथ किया है। राहुल गांधी के इस ट्वीट के बाद बयानों की भरमार लग गई।

इसे भी पढ़ें: दुनिया के सबसे बड़े क्रिकेट स्टेडियम का राष्ट्रपति ने किया उद्घाटन, अब नाम होगा नरेंद्र मोदी स्टेडियम 

समाचार एजेंसी से बात करते हुए बाबा रामदेव ने कहा कि इस देश में कुछ गिने-चुने खानदानों के नाम पर ही सारे एयरपोर्ट, संस्थान हैं, ऐसा क्यों है ? पूर्व में भी महापुरुष हुए हैं और इस समय मोदी जी भी राष्ट्रपुरुष हैं, उनके नाम से स्टेडियम होने पर कोई आपत्ति नहीं होनी चाहिए।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept