केरल विधानसभा अध्यक्ष के खिलाफ सदन में अविश्वास प्रस्ताव पेश हुआ

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 21, 2021   16:34
केरल विधानसभा अध्यक्ष के खिलाफ सदन में अविश्वास प्रस्ताव पेश हुआ

केरल विधानसभा अध्यक्ष पी श्रीरामकृष्णन पर डॉलर तस्करी के मामले में लगे आरोपों के मद्देनजर और सदन परिसर में हुई विभिन्न निर्माण गतिविधियों में अपव्यय को लेकर, उनके खिलाफ विपक्षी यूडीएफ ने बृहस्पतिवार को सदन में अविश्वास प्रस्ताव पेश किया।

तिरुवनंतपुरम। केरल विधानसभा अध्यक्ष पी श्रीरामकृष्णन पर डॉलर तस्करी के मामले में लगे आरोपों के मद्देनजर और सदन परिसर में हुई विभिन्न निर्माण गतिविधियों में अपव्यय को लेकर, उनके खिलाफ विपक्षी यूडीएफ ने बृहस्पतिवार को सदन में अविश्वास प्रस्ताव पेश किया। हालांकि सत्तारूढ़ वाम मोर्चे ने शुरुआत में तकनीकी कारणों का हवाला देते हुए प्रस्ताव पर आपत्ति जताई, लेकिन बाद में सदन ने मामले पर चर्चा करने का फैसला किया।

इसे भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमित छह और व्यक्तियों की मौत, 195 नए मरीज

प्रस्ताव को पेश किए जाने से पहले, श्रीरामकृष्णन ने अध्यक्ष के आसन से उठ कर चले गए और उपसभापति पी शशि ने कार्यवाही शुरू की। एम उम्मेर (आईयूएमएल) ने अध्यक्ष को हटाने के लिए प्रस्ताव पेश किया। उन्होंने कहा कि प्रस्ताव व्यक्तिगत या राजनीतिक कारणों से नहीं बल्कि सदन की गरिमा की रक्षा के लिए लाया गया है। उम्मेर ने कहा, अध्यक्ष के खिलाफ प्रतिदिन गंभीर आरोप लग रहे हैं। यह कहा जा रहा है कि वर्तमान विधानसभा सत्र की समाप्ति के बाद केंद्रीय एजेंसियां उनसे पूछताछ करेंगी। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि हाल ही में विधानसभा परिसर में किए गए विभिन्न निर्माण कार्य पारदर्शी नहीं थे।

इसे भी पढ़ें: तारों के ध्वंस से जुड़ी गुत्थी समझने में सहायक नया शोध-अध्ययन

हालांकि, एस शर्मा (माकपा) ने यह कहते हुए प्रस्ताव पर कड़ी आपत्ति जताई कि यह विधानसभा के नियमों का उल्लंघन है। विधानसभा में भाजपा के एकमात्र सदस्य ओ राजगोपाल ने अध्यक्ष के खिलाफ कांग्रेस के नेतृत्व वाले यूडीएफ के अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन किया। इस बीच, युवा कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने विधानसभा परिसर के बाहर प्रदर्शन के दौरान विधानसभा अध्यक्ष का पुतला जलाया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।